भारत में धर्म की आड़ में हो रहे सिर्फ बलात्कार, अब जैन धर्मगुरु ने किया 19 साल की छात्रा से रेप !

0
88

 

सूरत : देश में धर्मगुरों के कुकर्मों और काले साम्राज्य का पर्दाफाश लगातार जारी है,अबकी बार जैन धर्मगुरु एक लड़की से बलात्कार के आरोप में धरे गए हैं। यह वहीँ धर्मगुरु हैं जो सभी जगह पहले से ही नंगे घूमते रहे हैं, इसलिए इनको अपनी इज्जत उतरने का डर तो पहले से ही नहीं है। बता दें कि यह घटना प्रधानमंत्री मोदी के गृहराज्य गुजरात के सूरत की है, जहाँ एक लड़की से रेप करने के आरोप में जैन मुनि आचार्य शांतिसागर को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके बाद जैन मुनि को जेल भेज दिया गया है। 49 वर्षीय जैन मुनि आचार्य शांतिसागर पर 19 साल की एक लड़की से एक अक्तूबर को बलात्कार किये जाने का आरोप लगा है। यह आरोप स्वयं लड़की ने लगाया है। लड़की ने जैन मुनि के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज करायी।

भारत में ज्ञान बाटने का यह गोरख धंधा सिर्फ बलात्कार करने के लिए ही है क्या ? अब तक कई बड़े बाबा और योगी बलात्कार के आरोप में पकडे जा चुके हैं जिसमे – आसाराम,रामपाल,गुरमीत सिंह आदि शामिल हैं।

Image may contain: 1 person, glassesजाने कौन है ये जैन मुनि आचार्य शांतिसागर ?

वहीँ इस बलात्कारी बाबा के बारे में एक और चौकाने वाली बात सामने आयी है कि – यह जैन धर्मगुरु तो जैन धर्म से तालुक ही नहीं रखता है। शांतिसागर का असली नाम गिरराज शर्मा है,इसके पिता सज्जनलाल शर्मा हलवाई थे और उनका परिवार कोटा में रहता था। बचपन से लेकर जवानी तक यह मध्य प्रदेश के गुना डिस्ट्रिक्ट में रहा । उनके एक दोस्त ने बताया कि शांतिसागर उर्फ़ गिरराज मौज-मस्ती में जीने वाला व्यक्ति था, खूब क्रिकेट खेलता था, पढ़ाई में एवरेज था। उनके दोस्तों का ग्रुप शहर में उन दिनों के सबसे फैशनेबल युवाओं का था। कपड़े हों या हेयर कट, नए ट्रेंड को सबसे पहले यही ग्रुप अपनाता था। शांतिसागर उर्फ़ गिरराज 22 साल की उम्र में मंदसौर में जैन संतों के कॉन्टेक्ट में आया और बाद में पढ़ाई अधूरी छोड़कर वहीं दीक्षा लेकर गिरराज से शांतिसागर महाराज बन गए। संन्यासी बनने के तीन दिन पहले वह गुना आए थे। दो दिन बिताने के बाद कभी गुना नहीं लौटे।

बलात्कार की बात,किसी को बताने पर माँ-बाप सहित सभी को जान से मारने की धमकी दी –

 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मूल रूप से मध्यप्रदेश की रहने वाली लड़की का परिवार गुजरात के बड़ौदा में रहता है, जिससे जैन मुनी ने टीमलियावाड नानापुरा धर्मशाला में संबंध बनाया था। पीड़ित लड़की वडोदरा में फैशन डिजाइनर का कोर्स कर रही है।

लड़की ने बताया कि वो अपने परिवार के साथ एक अक्टूबर को सूरत के जैन मंदिर गई थी। जहां चातुर्मास करने पधारे मुनि ने मंत्र जाप के नाम पर लड़की को मंदिर में ही रोक लिया और माता-पिता को दूसरे कमरे में मंत्र जाप के लिए भेज दिया। फिर आरोपी ने लड़की से रेप किया। इस दौरान 45 वर्षीय शांतिसागर जैन मुनि ने लड़की को धमकाया और शोर मचाने पर उसके मां-बाप को जान से मरवाने की धमकी भी दी।

 

छात्रा की शिकायत पर शांतिसागर के खिलाफ अठवा थाने में रेप का मुकदमा दर्ज किया गया है। शुक्रवार देर रात मेडिकल चेकअप में छात्रा के साथ रेप की पुष्टि हुई है. इधर, पीड़ित लड़की के मेडिकल जांच के बाद सूरत के सिविल अस्पताल की सीएमओ ने बताया कि आरोपी मुनि का सोमवार को पोटेंसी टेस्ट कराया जाएगा। पीड़ित लड़की ने बताया कि माता-पिता करीब 7 महीने पहले ही शांतिसागर महाराज के संपर्क में आए थे। उन्होंने मार्च 2017 में उन्हें गुरु बनाया था लेकिन, इस दौरान लड़की मुनि से नहीं मिली थी।

बलात्कारी बाबा ने कबूला अपना जुर्म –

वहीं जैन मुनि का कहना है कि उसने लड़की की रजामंदी से उससे संबंध बनाया था और जीवन में पहली बार ऐसा किया। मेडिकल जांच के दौरान डॉक्टर ने उससे पूछा – आप मुनि हैं फिर ऐसा क्यों किया, इसका उसने कोई जवाब नहीं दिया। जैन मुनि पर रेप का आरोप लगने के बाद उसके समर्थकों ने हंगामा भी किया। उनका आरोप था कि महाराज को झूठ में फंसाया गया है।

Loading...