अहमद पटेल के आगे अमित शाह चारों खाने चित, खरीद फरोख्त के बावजूद नहीं जिता पाए तीसरा सांसद !

0
873

नई दिल्ली, गुजरात में तीन राज्यसभा सीटों पर हुए चुनाव में दो सीटें बीजेपी ने जीती और एक सीट कांग्रेस ने अपने नाम कर ली। इन राज्यसभा चुनाव में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को राजनीतिक तौर पर बुरी हार का सामना करना पड़ा। भाजपा के चाणक्य अमित शाह को कांग्रेस के चाणक्य अहमद पटेल ने चारों खाने चित कर दिया है।

संख्या बल के हिसाब से भारतीय जनता पार्टी के दो सांसदों का जीतना तय था। मगर जीत की अतिमहत्वाकांक्षा के चलते भाजपा ने कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए बलवंत राजपूत को तीसरे उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतार दिया। बलवंत राजपूत को जिताने लिए भाजपा ने जमकर कांग्रेस में तोड़फोड़ मचाई। कांग्रेस विधायकों ने आरोप लगाया कि भाजपा की तरफ से उन्हें 15 करोड़ का ऑफर दिया गया और इस ऑफर को न मानने पर स्थानीय प्रशासन का दबाव बनाया गया।

भाजपा गुजरात कांग्रेस को तोड़ने में सफल रही। कांग्रेस के 57 विधायकों में से 15 विधायक तोड़ लिए। लेकिन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की सारी रणनीति धरी की धरी रह गई। अमित शाह खुद तो जीत गए मगर अपना तीसरा प्रत्याशी नहीं जिता पाए। वोटिंग के दौरान कांग्रेस के दो विधायकों ने अपना बैलट पेपर अमित शाह को दिखाया जिसके चलते इन दो विधायकों का वोट चुनाव आयोग ने रद्द कर दिया।

कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल ने चुनाव आयोग में इन दोनों विधायकों की शिकायत की जिससे बौखला कर भाजपा की तरफ से 6 केंद्रीय मंत्री चुनाव आयोग पर दबाव बनाने पहुंचे। मगर चुनाव आयोग दबाव के आगे झुका नही जिसके लिए चुनाव आयोग की चारों तरफ वाह वाही हो रही है। कांग्रेस रणनीतिकारों ने चुनाव आयोग में जो सबूत और दलील पेश की उसके बिना पर चुनाव आयोग ने एक ऐतिहासिक फैसला लेते हुए दोनों विधायकों का वोट रद्द कर दिया।

चुनाव आयोग में दो वोट रद्द होने से भाजपा के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह की सारी रणनीति कांग्रेस के चाणक्य अहमद पटेल के आगे पस्त हो गई। 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद कल मंगलवार को अमित शाह को सबसे बुरी हार का सामना करना पड़ा।

अमित शाह द्वारा एड़ी चोटी का जोर लगाने के बावजूद वो अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदी अहमद पटेल को हरा नहीं पाए। तीन सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा की ओर से अमित शाह और स्मृति ईरानी को 46 – 46 वोट मिले और भाजपा के तीसरे प्रत्याशी बलवंत सिंह को 38 वोट ही मिल पाए जबकि कांग्रेस के अहमद पटेल को 44 वोट मिले और उन्होंने जीत हासिल की। कांग्रेस को जेडीयू के एक विधायक और एनसीपी के एक विधायक का समर्थन मिला इसके अलावा गुजरात जनचेतना पार्टी के विधायक ने भी कांग्रेस को वोट दिया।

Prev1 of 2

Loading...