योगी के गढ़ गोरखपुर में अखिलेश की दहाड़, ऐतिहासिक जनसमर्थन देख बोले……. !

0
21

गोरखपुर, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को योगी के गढ़ गोरखपुर में विशाल जनसभा को संबोधित किया। जान सभा में पहुंचे विशाल जन समूह को देख पूर्व मुख्यमंत्री गदगद नजर आए। जनसभा के बाद उन्होंने सोशल मीडिया में लिखा कि, गोरखपुर में ऐतिहासिक जन समर्थन ने साबित कर दिया है कि 11 मार्च को जब ये वोटों में बदलेगा तो देश का राजनीतिक इतिहास भी बदलेगा. जनता और सभी समर्थक दलों को धन्यवाद!

योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर में बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव योगी सरकार पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि मैं विधानसभा के सत्र में सुन रहा था। नेता प्रतिपक्ष को जवाब देते हुए नेता सदन योगी आदित्यनाथ खुद को हिंदू बताते हुए लंबाचौड़ा भाषण दे रहे थे। आप बताइए हम लोग कौन हैं। हमको पिछड़ा और दलित करार दिया जाता लेकिन वह बताएं क्या हम हिंदू नहीं हैं। हिन्दू की परिभाषा क्या है? वे कहते हैं कि वह हिंदू हैं। अगर वह हिंदू हैं तो हम क्या हैं?

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि, बसपा से हमने गठबंधन कर लिया तो हमको और बसपा को सांप-छछूंदर बताया जा रहा। वह जो बहुत बोल रहे हैं उनको हमने संसद में चुप बैठे देखा है। उनको लोग टीवी पर सदन में रोते हुए भी देखे हैं। वह अब बताने लगे हैं कि हम सांप-छछूंदर हो गए हैं।

अखिलेश यादव ने कहा कि जब हम सत्ता में थे तो थाने से लेकर कहीं कोई यादव अधिकारी या कर्मचारी तैनात होता था तो उसे मेरा रिश्तेदार बताया जाता था। लेकिन लखनऊ से लेकर यहां तक कौन थाने और कार्यालय को चला रहा। यह अब कौन बताएगा। वह क्यों नहीं बता रहे कि अब थानों में किसकी तैनाती हो रही, सरकारी आफिसों को कौन चला रहा है।

उन्होंने कहा कि हम समाजवादी लोग लैपटाॅप बांटने वाले हैं, एंबुलेंस चलाने वाले हैं। मैं इंजीनियर हूं और हमने जिसको टिकट दिया वह भी इंजीनियर है। उन्होंने कहा कि, नोटबंदी में किसके रुपये बैंकों में जमा हुए। हम गरीबों के। वह भ्रष्टाचार पर दूसरे को कटघरे में खड़ा करते थे। अब क्यों नहीं बता रहे कि काला धन कब आएगा। हम नहीं कह रहे आपकी सरकार के मंत्री और विधायक कह रहे कि भ्रष्टाचार कम नहीं हुआ बल्कि दुगुना हो गया।

नीरव मोदी पर बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि, बैंकों से हजारों करोड़ रुपये लेकर वह जो भागा है उसे किसने भगाया। अखिलेश यादव ने चुटकी लेते हुए कहा कि अब तो भ्रष्टाचारी पकड़े नहीं जा रहे बल्कि विदेश भाग रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार समाजवादी सरकार के काम का मुकाबला नहीं कर सकती। उन्होंने पूछा कि 15 लाख कितने के अकाउंट में आए? अगर इस वादे पर आप वोट दे रहे हैं तो हम 30 लाख देने का वादा करेंगे।

बीआरडी मेडिकल काॅलेज में ऑक्सीजन की कमी से बेमौत मर गए बच्चों का मुद्दा उठाते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि दर्जनों माताओं की गोद सूनी हो गई। आक्सीजन की कमी से बच्चे मरे और उनकी मां अपने बेटों का घर पर इंतजार करती रह गई। समय से बच्चों को ऑक्सिजन मिल जाती तो उनकी जान नहीं जाती। एक मां के तो कई साल बाद जुड़वां बच्चे हुए लेकिन आक्सीजन की कमी से दोनों बच्चे मर गए। हमारी सरकार नहीं थी तब भी हमने पीड़ित परिवारों की मदद की। हमारी सरकार मदद करती थी तो यही लोग हिंदू-मुस्लिम का चश्मा लगा देते थे। अब उनकी सरकार नहीं थी फिर भी मदद की तो किसकी की।

उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमलावर होते हुए कहा कि बच्चे मरे तो मुख्यमंत्री कह रहे थे कि बच्चों के इलाज की जिम्मेदारी मेरी नहीं है। इनके मंत्री कहते हैं अगस्त में तो बच्चे मरते ही है। इनके राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि इन मौतों से हमारा कोई लेना देना नहीं है। अखिलेश यादव ने वादा किया कि समाजवादी सरकार आई तो बच्चों की मौत की जांच कराएगी, जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई होगी।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार ने समाजवादी पेंशन बंद कर दिया है। अगर उनकी सरकार बनेगी तो वह अब समाजवादी पेंशन को चार गुना बढ़ा देंगे। पहले 500 मिलती थी, सत्ता में आएंगे तो 2000 रुपये हर महीना देंगे। जनसभा को नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी, पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ.अयूब खान, निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ.संजय निषाद सहित दर्जनों नेताओं ने संबोधित किया।

Loading...