अखिलेश यादव ने बिजली महंगी किए जाने पर सीएम योगी पर लगाया बड़ा आरोप, देखें क्या कहा !

0
0

लखनऊ, निकाय चुनाव के अंतिम चरण की वोटिंग के अगले दिन ही प्रदेश की योगी सरकार ने बिजली के दामों में भारी वृद्धि कर दी जिससे आम जनमानस परेशान है। बिजली के दामों की सबसे बड़ी मार ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों या यूं कहें कि किसानों पर पड़ा है। योगी सरकार द्वारा बेहिसाब बिजली के दाम बढ़ाए जाने पर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बड़ा हमला किया है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि, निकाय चुनावों के मतदान के ठीक अगले दिन बिजली दरों में वृद्धि प्रदेश की भाजपा सरकार की राजनीतिक बेईमानी और अनैतिक आचरण को दर्शाता है। किसानों, खास तौर से ग्रामीण क्षेत्रों की दरों मे बेतहाशा वृद्धि भाजपा की किसानों के प्रति सोच को दिखाता है। उन्होंने इस जनविरोधी वृद्धि को तत्काल वापस लेने की मांग की है।

अखिलेश यादव ने कहा कि, सपा सरकार के समय बिजली उत्पादन का बुनियादी ढांचा विकसित कर 8500 मेगावाट से 16500 मेगावाट उत्पादन की व्यवस्था की गई थी। उसे भाजपा सरकार ने बर्बाद कर दिया है। ग्रामीण अनमीटर्ड बिजली उपभोक्ताओं की जो बिजली दरें तय हुई हैं, उन्हें देखा जाए तो स्पष्ट है कि गांव की जनता को ठगा गया है। ग्रामीण मीटर्ड उपभोक्ता पहले 50 रुपये प्रति किलोवाट फिक्स चार्ज व 2.20 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से बिल चुकाते थे जबकि अब उन्हें 80 रुपये प्रति किलोवाट फिक्स चार्ज और 5.50 रुपये प्रति यूनिट की दर से बिल का भुगतान करना पडे़गा।

अखिलेश यादव ने कहा कि, भाजपा का हमेशा से दोहरा चरित्र रहा है। निकाय चुनाव में बिजली-पानी सड़क जैसी बुनियादी सुविधाओं के नाम पर वोट मांगने वाली भाजपा ने मतदान के तत्काल बाद वादाखिलाफी करके जनता को धोखा दिया है। भाजपा जानती है कि किसान उनके बहकावे में कभी नहीं आ सकते हैं, इसलिए किसानों को दंडित किया जा रहा है। सपा किसानों पर भाजपा सरकार के अन्याय को बर्दाश्त नहीं करेगी।

योगी आदित्यनाथ का EVM को लेकर बड़ा बयान, मायावती को दे दिया बड़ा चैलेंज, देखें क्या कहा !

Loading...