संघ का राष्ट्रवाद : त्रिपुरा में लेनिन,तमिलनाडु में पेरियार के बाद यूपी में तोड़ी गयी ‘आंबेडकर’ की मूर्ति !

0
0

 

मेरठ : देश की मोदी सरकार में भारत में एक नए तरीके की अराजकता ने जन्म ले लिया है, पूरे देश में विचारधारा के नाम पर कई जगह उपद्रव हो रहे हैं। बता दें कि त्रिपुरा में भाजपा की जीत के बाद देश में कई जगह फैली हिंसा की आग उत्तर प्रदेश के मेरठ तक पहुंच चुकी है। यहां मवाना क्षेत्र के एक गांव में आंबेडकर की मूर्ति तोड़कर हिंसा फैलाने की कोशिश की गई। असामाजिक तत्वों द्वारा मूर्ति खंडित करने की सूचना मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मचा गया। उधर, दलितों में भी इसको लेकर आक्रोश है।

भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं की यह हरकत, क्या राष्ट्रवाद की श्रेणी में आता है !

गौरतलब है कि त्रिपुरा में भाजपा सरकार बनने के बाद से देश में कई जगह अराजकता का माहौल पैदा हो गयी है, जहाँ त्रिपुरा में उत्साही भाजपा कार्यकर्ताओं ने रूस के नेता लेनिन की मूर्ती को जेसीबी से गिरा दिया तथा तमिलनाडु में उत्साही भाजपा कार्यकर्ताओं ने पेरियार की मूर्ती को क्षतिग्रस्त कर दिया।

बता दें कि मवाना के खुर्द गांव में देर रात कुछ असामाजिक तत्वों ने डॉ. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा खंडित कर दी गई। सुबह ग्रामीणों ने इसे लेकर हंगामा कर दिया। हालांकि दिन निकलते ही सीओ, एसडीएम भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस अधिकारियों ने किसी तरह लोगों को शांत कराया और आंबेड़कर की नई मूर्ति लगवा दी।

वहीं हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक योगेश वर्मा ने बताया कि इस खबर को सुनने के बाद एसडीएम से संपर्क करने की कोशिश की। लेकिन उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। फिलहाल गांव में पुलिस तैनात कर दी गई है।

Loading...