सेना से नौकरी छोड़ने का आतंकी फरमान ना मानने पर, देशभक्त लेफ्टिनेंट उमर फयाज की कश्मीर में हत्या !

0
39
Loading...

जम्मू-कश्मीर : कश्मीर घाटी में आतंकियों के हौसले सातवें आसमान पर हैं,वहीं जब भारत के प्रधानमंत्री,रक्षामंत्री और गृहमंत्री आतंकी घटना की कड़ी निंदा करते हैं तो आतंकियों में ड़र के साथ दहशत भी व्याप्त हो जाती है।

मंगलवार रात कुलगाम में आतंकियों ने सेना के एक अधिकारी का अपहरण कर हत्या कर दी। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक जम्मू के अखनूर में तैनात लेफ्टिनेंट उमर फयाज शोपियां में एक शादी समारोह में छुट्टी लेकर गए थे। इसी दौरान आतंकियों ने उनका अपहरण कर लिया। बुधवार सुबह शोपियां में लेफ्टिनेंट का शव बरामद किया गया। शव पर गोलियों के दो निशान मिले हैं। लेफ्टिनेंट फयाज कुलगाम के रहने वाले थे।

घटना के बाद से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। लेफ्टिनेंट उमर ने वर्ष 2016 में ही सेना में कमीशन प्राप्त किया था। पुलिस ने आतंकियों की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है।

जेटली ने अलापा पुराना राग – लेफ्टिनेंट की शहादत नहीं जाएगी बेकार !

कश्मीर में आतंकी युवाओं को पुलिस और सेना की नौकरी ना छोड़ने पर जान से मारने की धमकी देते आ रहे हैं !

अभी तक हत्या की वजह का पता नहीं चल पाया है। सूत्रों के मुताबिक घाटी में आतंकी युवाओं को पुलिस और सेना की नौकरी छोड़ने की धमकी दे रहे हैं और उसी वजह से लेफ्टिनेंट की हत्या की गई।

इस पूरे मामले में रक्षा मंत्री अरुण ने कहा है कि ले. उमर फैयाज का अपहरण कर उनकी हत्या करना कायरता है। सेना का अधिकारी जम्मू-कश्मीर के लिए एक मिसाल है। उन्होंने कहा कि वो एक शानदार खिलाड़ी थे, जिनकी शहादत बेकर नहीं जाएगी। इस घटना के बाद गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने इसकी निंदा करते हुए कहा कि इस जांच की जाएगी। जांच के बाद ही इसके बारे में कोई जवाब दिया जाएगा।

Loading...