औरैया पंचायत चुनाव, पुलिस और BJP प्रत्याशी की धमकी,’एक के हाथ-पैर तोड़ दिए हैं’- AUDIO सुनें !

0
304

 

औरैया : समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव की तरफ से प्रेस के सामने दिए गए बयान में एक तथ्यात्मक मोड़ आ गया है, बता दें कि अखिलेश यादव ने पुलिस और भाजपा प्रत्याशी के ऊपर खुलेआम गुंडई और सदस्यों को धमकी देने का आरोप लगाया था। कुछ दिन पहले ही एक जिला पंचायत सदस्य को भाजपा प्रत्याशी और पुलिस के दरोगा द्वारा धमकी दी गयी थी जिसका ऑडियो वायरल हो गया है और अखिलेश यादव के लगाए आरोप भी प्रमाणित हो गए हैं। गौरतलब है कि कल अपनी प्रेस में अखिलेश ने कहा था कि पुलिस ने तो लगता है सुपारी ले राखी है भाजपा का जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने की,इसीलिए पुलिस पूरी तरह से गुंडई पर आ गयी है।

भाजपा प्रत्याशी जिला पंचायत अध्यक्षी के लिए सदस्य किस तरह जुटा रहे हैं इसका खुलासा औरैया में वायरल हुए एक ऑडियो से हुआ है, औरैया में भाजपा की तरफ से अध्यक्षी के प्रत्याशी जिला पंचायत सदस्य दीपू सिंह ने एक सदस्य शिव सिंह को फोन करके न केवल खुद धमकाया बल्कि थानेदार को फोन देकर उनसे भी धमकी दिलवायी।

फोन पर इस सदस्य को बताया गया कि कैसे एक दूसरे सदस्य राकेश को आधी रात में पुलिस घर में कूद कर पत्नी के साथ उसे उठा लायी और डंडे मार कर उसके पैर तोड़ दिए। यह भी समझाया कि सामने चुनाव लड़ने वाला कल्लू (सपा जिला पंचायत सदस्य) दो दिन बाद चुनाव लड़ने लायक ही नहीं रहेगा। पूर्व सीएम अखिलेश यादव का बयान आने और मामला खुलने पर पुलिस कप्तान ने थानेदार से जवाब-तलब किया है और एक आख्या मंगवाकर मामला घुमाने की कोशिश की।

सोशल मीडिया में वायरल आडियो के अनुसार दीपू सिंह दिबियापुर थाने में बैठकर एक जिला पंचायत सदस्य शिव सिंह को धमका रहे हैं। वह बता रहे हैं कि पांच सदस्य कैसे आए हैं और धमकी भरे लहजे से कह रहे हैं कि दो घंटे के अंदर वह भी आ जाए नहीं तो वह जाने, उसका काम जाने। जिस सदस्य को धमकाया जा रहा है उसके परिजनों पर दिबियापुर थाने में कोई मुकदा दर्ज बताया जा रहा है और कहा जा रहा है इसमें हिरासत में लिए गए परिवार के लोग उसके आने पर छूट जाएंगे।

बाद में दीपू फोन थानेदार को पकड़ा कर समझाने को कहते हैं, थानेदार भी फोन पर एफआईआर के बारे में जिला पंचायत सदस्य को बताते हैं और कहते हैं वह साथ आ जाएंगे को मुकदमा निपट जाएगा। जिला पंचायत सदस्य शिव सिंह समझाने की कोशिश करते हैं कि वह तो उन्हीं के साथ है तो थानेदार कहते हैं कि जब श्रद्धा भटकती है तो जानकारी हो ही जाती है। वह आ जाएंगे तो सब खत्म हो जाएगा..विवेचना चल ही रही है। आडियो में दीपू सिंह दूसरे दावेदार कल्लू के बारे में कहते हैं कि उसको चुनाव लड़ने लायक नही रखेंगे। दो दिन बाद वह इस लायक नहीं रहेगा कि चुनाव लड़ सके। आडियो वायरल होने के बाद पुलिस कप्तान संजीव त्यागी ने थानेदार से इसके बारे में जवाब-तलब किया और फिर एक बयान जारी किया।

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ में कहा कि औरैया में सपा के जिला पंचायत सदस्य कल्लू यादव को फर्जी मुकदमे में फंसा दिया गया है ताकि भाजपा अपना जिला पंतायत अध्यक्ष बनवा सके।

पुलिस का चेहरा उजागर होने पर कप्तान की ओर से जारी बयान –

पुलिस कप्तान ने पूरे मामले में लीपापोती करते हुए कहा कि वायरल आडियो क्लिप के संबंध में एसओ दिबियापुर से प्राप्त आख्या के अनुसार भाई के साथ मुकदमे में जिला पंचायत सदस्य शिव सिंह का नाम प्रकाश में आया है। दीपू सिंह से संबंध होने के कारण उनको माध्यम बनाकर उनसे बातचीत की गई। जहां तक सुधीर उर्फ कल्लू का मामला है उनके प्रत्याशी बनने की कोई संभावना नहीं है। जिला पंचायत सदस्य राकेश को उठाने व पैर तुड़वाने की बात गलत है, यह उसने खुद सामने उपस्थित होकर बतायी है।

यूपी चुनाव – भाजपा की बुरी हार, सत्ता भी नहीं दिला पाई जीत, सपा ने मारी बाजी !

Loading...