‘रामराज्य’ में स्वास्थ्य सुविधाएं राम भरोसे, गोरखपुर के बाद सीतापुर में ऑक्सीजन न मिलने से बच्ची की मौत !

0
100
स्वास्थ्य मंत्री दिल्ली के बड़े नेताओं की चरन वंदना में व्यस्त रहते हैं हर हफ्ते हाजिरी लगाने दिल्ली पहुंच जाते हैं। जिस दिन गोरखपुर में बाल हत्याकांड हुआ उस दिन भी दिल्ली में चरन वंदना में व्यस्त थे!

सीतापुर, गोरखपुर में 63 बच्चों की हत्या का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ सरकार मामले की लीपापोती करने में व्यस्त है तो वहीं लखनऊ से सटे सीतापुर से खबर आ रही है कि यहां के लहरपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ऑक्सीजन न मिलने से एक बच्ची की मौत हो गयी। अब अस्पताल प्रशासन लीपापोती करने में जुटा हुआ है।

जानकारी के अनुसार, प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटे सीतापुर में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही का बड़ा मामला सामने आया है। यहां के लहरपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ऑक्सिजन ना मिलने की वजह से एक बच्ची की मौत हो गयी, जिसके बाद परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा काटा और डॉक्टरों पर ऑक्सिजन ना देने का आरोप लगाया। इस पर जिले का स्वास्थ्य विभाग बच्ची की पहले से ही मौत होने की बात कह रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो लहरपुर अस्पताल में दो फार्मासिस्ट तैनात हैं। एक फार्मासिस्ट हज यात्रा पर गया है और दूसरा दो दिन से छुट्टी पर है, जबकि अस्पताल में ऑक्सिजन सिलेंडर मौजूद था, लेकिन सिलेंडर लगाने वाला सक्षम व्यक्ति मौजूद नहीं था। मृतक बच्ची के परिजनों की मानें तो इलाज के मामले में भी जिले का यह अस्पताल पूरी तरह फेल है और मरीजों को किसी की भी कोई फ्रिक्र नहीं है।

परिजनों ने यह भी आरोप लगाया कि डॉक्टरों द्वारा भी गंभीरता से उसी का इलाज किया जाता है, जो उनसे उनके आवास पर अलग से मिलता है। वहीं इस मामले में सीतापुर सीएमओ डॉ, ध्रुव नारायण सिंह का कहना है कि वे मामले में जांच कराएंगे। उन्होंने कहा कि इस मामले में जो भी दोषी पाया जाएगा उस पर कार्रवाई की जाएगी।

उत्तर प्रदेश में रामराज्य स्थापित करने के दावा करने वाली योगी सरकार गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन न मिलने से हुई 60 से अधिक बच्चों की मौत के मामले में लगातार घिरती जा रही है। विपक्ष से लेकर मीडिया और आम जनमानस में सरकार के कामकाज और उनके मंत्रियों और अधिकारियों के बयानों को लेकर काफी भद्द पिट रही है। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि गोरखपुर, लहरपुर के अलावा प्रदेश के और कौन-कौन से अस्पताल हैं, जहां ऑक्सीजन की मौजूदगी नहीं है और वहां जिंदगियां मौत से जूझ सकती हैं।

 

 

Loading...