500-2000 की नयी करेंसी का 50% पैसा डम्प, देश के 80% ATM खाली, लोग अपने ही पैसे को भटक रहे !

0
180

लखनऊ, देश में फिर से पैसों का संकट आहट दे रहा है क्योंकि जारी की नयी करेंसी का लगभग 50 फीसदी पैसा लोगों ने फिर से ड़म्प कर लिया है,वहीं बैंकों के एटीएम में एक बार फिर नगदी संकट शुरू हो गया है। इसमें कुछ जगहों पर तो नो कैश का बोर्ड लगा है जबकि कुछ जगहों पर आधा शटर गिराकर गार्ड बाहर बैठ रहे हैं।

ऐसे में हर कोई पैसे की तलाश में इधर-उधर चक्कर काट रहा है। जिस किसी एटीएम में पैसा मिलने की सूचना मिल रही हैं, वहां लंबी लाइन भी दिख रही है।
यूपी के साथ देश के कई शहरों में एसबीआई, यूनियन बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा सहित कई अन्य एटीएम भी में पैसा नहीं मिल रहा है।

वही प्रधनमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में भी लोगों का पैसे बिना बुरा हाल है और लोग अपने ही पैसे के लिये गली-गली भटक रहे हैं ,इसमें एसबीआई डीएलडब्ल्यू, सुंदरपुर, लंका आदि पर तो नो कैश का बोर्ड भी लगा है।इस बीच कचहरी स्थित मुख्य शाखा के बाहर पैसा मिल रहा था तो वहां चिलचिलाती धूप में लोग लंबी लाइनें लगाकर खड़े थे। इसके अलावा यूनियन बैंक, पीएनबी, बैंक ऑफ बड़ौदा आदि के एटीएम पर भी पैसा नहीं मिल पा रहा है।

वही नोएड़ा से इं० अनुराग यादव ने बताया कि नोएड़ा क्षेत्र के Sector 78 – ICICI, HDFC, Axis,
Sector 51 – HDFC , SBI, और Sector 41 – IndusInd, Fedral,HDFC, ICICI सभी एटीएम में चक्कर लगाने के बाद भी मुझे पैसे नही मिल पाये ।

वहीं देवरिया में भी कुछ यही हाल दिखा उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए बस स्टेशन पर स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल, सेंट्रल बैंक और एचडीएफसी, रेलवे स्टेशन मार्ग स्थित यूनियन बैंक की शाखा में लगा एटीएम, दो प्राइवेट और स्टेट बैंक की शाखा सहित कुल आधा दर्जन से अधिक एटीएम हैं। गुरुवार को अधिकांश एटीएम में कैश नहीं होने पर लोग इधर-उधर दौड़ते देखे गए। सेंट्रल बैंक के एटीएम पर कैश के बारे में पूछे जाने पर गार्ड ने ग्राहकों सही जवाब नहीं दिए।

महेन के नागेंद्र यादव, बिजौली के रवि पासवान, उजरा मोहन के भगवानदास, भैदवां के विजय कुमार, कपरवार के रवि कुशवाहा, बकुची के रवि सिंह, नौका टोला के रामनरेश साहनी आदि का कहना है कि घर से बरहज के लिए एटीएम से रुपये निकालने आया था। लेकिन खाली हाथ लौटना पड़ रहा है। एसडीएम अरुण कुमार सिंह ने बताया कि बैंकों में कैश की किल्लत सामने आ रही है। रही बात उपभोक्ताओं की सुविधा की तो शाखा प्रबंधकों से बात कर इसे सही कराया जाएगा।

वहीं इटावा शहर में करीब 50 एटीएम स्थापित हैं। शनिवार को इनमें से करीब 40 एटीएम बंद रहे। शास्त्री चौराहा स्थित स्टेट बैंक मेन ब्रांच के बाहर लोगों की भीड़ दिखी। सुबह यहां तीन एटीएम चालू थे लेकिन दोपहर 12 बजे तक इन एटीएम के भी शटर गिरा दिए गए।
कचहरी रोड पर कई बैंकें मौजूद हैं। बैंक शाखाओं के बाहर उनके एटीएम भी लगे हैं। यहां मौजूद बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब बैंक, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, यूको बैंक, आईडीबीआई बैंक आदि बैंकों के एटीएम भी शोपीस बने रहे। पैसे निकालने आए लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ा।
बलराम सिंह चौराहा स्थित यूको बैंक के एटीएम पर आए जसवंतनगर के जनकपुर गांव के हरिओम और शिवा कालोनी निवासी नरेंद्र सिंह ने बताया कि वह कई एटीएम का चक्कर काटकर यहां आए थे, लेकिन रुपये नहीं मिले।

वहीं बदाँयू के हाल भी खराब नेकपुुर डीएम रोड का एटीएम—–
बुधवार को यह एटीएम दोपहर पौने दो बजे बंद मिला। वहां से पैसे निकालने आए लोग मायूस लौट रहे थे। एटीएम बंद होने पर लोगों ने बताया कि पैसे निकालने के लिए रोज चक्कर लगाना पड़ता है लेकिन कैश नहीं निकाल पा रहे हैं।
———-
टंडन प्लाजा के पास बॉब का एटीएम
दोपहर सवा दो बजे इस एटीएम का आधा शटर गिरा हुआ था। उस पर कैश न होने का नोटिस बोर्ड भी लगा है। लोग वहां से आकर लौट रहे हैं। उनका कहना है कि पिछले कई दिनों से यह एटीएम बंद है।
——–
जोगीपुरा में एसबीआई एटीएम
सायं लगभग पांच बजे यह एटीएम बंद था। एसबीआई की मुख्य शाखा होने की वजह से अधिकांश लोग वहीं जाते हैं, लेकिन उनको मायूस होकर लौटना पड़ता है। बुधवार को भी यहां आकर लोग कैश नहीं निकाल सके।
——-
जोगीपुरा एचडीएफसी एटीएम
बुधवार को दोपहर बाद इस एटीएम में भी कैश नहीं था। यहां आकर लोग एटीएम चेक करने के बाद खाली लौटने को विवश हुए। पिछले दिनों इस एटीएम में कैश बताया गया लेकिन अब इसमें भी कैश नहीं डाला जा रहा है। —-

सबसे ज्यादा खराब स्थिति ग्रामीण इलाकों में हैं, यहां लोग बैंकों में जाने को मजबूर हैं। नगदी संकट इस कदर है कि अधिकारी बैंकों में सोच समझकर कदम उठा रहे हैं।

इस बारे में एसबीआई के डीजीएम संजय मिश्रा ने बताया कि आरबीआई के अधिकारियों से बातचीत चल रही है। जल्द ही पर्याप्त मात्रा में रुपया मिल जाएगा।

Loading...