केरल में बीजेपी की हुई बुरी हार जमानत भी हुई जब्त, कांग्रेस के लिए आई खुशखबरी

0
70
Loading...

लखनऊ, केरल की मल्लापुरम लोकसभा सीट पर इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) के विधायक पी.के. कुन्हालीकुट्टी ने सोमवार को 1,71,038 लाख वोटों से जीत हासिल कर ली। आईयूएमएल के दिग्गज नेता मतगणना प्रक्रिया के सभी चरणों में अपने नजदीकी प्रतिद्वंद्वी मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के उम्मीदवार और युवा नेता एम.बी. फैजल से आगे रहे। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार एन. श्रीप्रकाश तीसरे स्थान पर रहे।

भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार एन. श्रीप्रकाश ने चुनाव प्रचार के दौरान अच्छे बीफ के सप्लाई के बात कही थी। अच्छा बीफ देने का वादा भी भाजपा के काम न आ सका और बुरी हार का सामना करना पड़ा यही नहीं भाजपा प्रत्याशी की जमानत भी जब्त हो गई। बीजेपी ने अभी विधानसभा चुनाव से पहले ही केरल में अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी के बैठक भी की थी लेकिन बीजेपी को विधानसभा चुनाव में भी बुरी हार का सामना करना पड़ा था।

ये भी पढ़ें – BJP का दोगलापन – यूपी में गाय माता है, केरल में वोटरों से अपील “मुझे वोट दो, मैं उपलब्ध कराऊंगा अच्छा बीफ”

कुन्हालीकुट्टी ने मीडिया से कहा कि वे ग्रामीण परिषदों में भी आगे चल रहे हैं, जहां वाम मोर्चा सत्ता में है। कुन्हालीकुट्टी ने कहा, इसका कारण यह है कि मैंने धर्मनिरपेक्ष दृष्टिकोण की जरूरत पर बल दिया और मतदाताओं ने मुझ पर भरोसा जताया है। साथ की कांग्रेस नेतृत्व वाले यूडीएफ की एकता ने भी इसमें मदद की है।

इस सीट के लिए 12 अप्रैल को वोट डाले गए थे, जिनमें 71.33 प्रतिशत मतदान हुआ था। अब सवाल यह उठता है कि क्या कुन्हालीकुट्टी ई. अहमद से बेहतर प्रदर्शन कर पाएंगे, जिन्होंने 2014 के चुनाव में 1.94 लाख वोटों के भारी अंतर से इस सीट पर जीत हासिल की थी।

मल्लापुरम सीट आईयूएमएल नेता ई. अहमद के निधन से रिक्त हो गई थी, जो यहां से सांसद थे। मल्लापुरम जिला आईयूएमएल का गढ़ है और अहमद ने 2014 के चुनाव में इस सीट पर भारी अंतर से जीत हासिल की थी। लेकिन 2016 विधानसभा चुनाव के दौरान आईयूएमएल विधायकों की जीत का अंतर कम हो गया था। हालांकि पार्टी ने सभी सात विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की थी।