योगीराज में बदमाशों का आतंक – कानपुर,लखनऊ,आगरा समेत कई बड़े शहरों में पड़ी डकैती, देखें रिपोर्ट !

0
251

लखनऊ/आगरा : बेखौफ बदमाशों ने आगरा और लखनऊ में अलग-अलग वारदातों को अंजाम देते हुए दिनदहाड़े घरों में घुसकर डाका डाला,तथा घर के लोगों के ऊपर जानलेवा हमला भी किया । वहीँ आगरा के घनी आबादी वाली कालोनी में हुई इस वारदात से सनसनी मच गई। पुलिस के सुरक्षा दावों और यूपी में कानून व्यवस्‍था की पोल खोलने के लिए यह एक वारदात ही काफी है। गौरतलब हैं कि कल कानपुर के पॉश इलाके में भी कुछ ऐसी ही घटना हुई, जिसमे घर में सरेआम घुसकर एक महिला की बेरहमी से हत्या कर दी गयी और 2 घंटे तक जमकर लूटपाट की गयी ।

एक नजर आगरा में पड़ी सरेआम डकैती की घटना पर,जब बदमाशों

ने गर्भवती महिला के कनपटी पर लगाई बदूक –

बताया गया है कि आगरा के थाना सिकंदरा क्षेत्र की महर्षि पुरम कालोनी में डाक्टर अतुल बंसल और डाक्टर आरती बंसल की कोठी है। साथ में ही उनके भाई एडवोकेट दीपक बंसल का परिवार भी रहता है। दीपक बंसल टैक्स संबंधी मामलों के वकील हैं। गुरुवार को सुबह करीब 10:30 बजे दीपक की पत्नी तनूजा बंसल घर पर अकेली थीं। इसी दौरान बाइक पर चार बदमाश आए, इनमें से दो बदमाश तो घर के अंदर चले गए वहीं दो बाहर ही रहे। अंदर घुसे बदमाशों ने तनूजा को गन प्वाइंट पर लेकर घर में लूटपाट शुरू कर दी। डर के मारे तनूजा को कुछ समझ नहीं आया है।

बताया गया है कि तनूजा गर्भवती भी हैं। फिर भी उन्होंने हिम्मत दिखाई। घर के अंदर बदमाश जब लूटपाट में लगे थे। इसी दौरान वे बाहर आ गईं और शोर मचाना शुरू कर दिया। यह देख बदमाश जो मिला वही समेट कर भाग गए। बाइक पर बाहर पहले से ही दो बदमाश तैयार खड़े थे। ऐसे में जब तक भीड़ इकट्ठा हुई बदमाश दूर निकल चुके थे।

घटना की सूचना पर मौके पर एसएसपी दिनेश चंद्र दुबे और एएसपी श्लोक कुमार मौके पर पहुंचे। यहां उन्होंने पीड़ित महिला से लूट के बारे में जानकारी ली। बताया गया है कि बदमाश लाखों का माल लूटकर ले गए हैं।

कानपुर के पॉश इलाके में पड़ी दिनदहाड़े डकैती में एक महिला की निर्मम हत्या –

13 बार चाकूओं से गोदा, सिर की सभी हड्डियां तोड़ने के बाद पैरों से मारकर निशा का चेहरा पिचका दिया –

कानपुर तिलक नगर में जेपी श्रीवास्तव कंपाउंड जैसे पॉश इलाके में बुधवार दिनदहाड़े घर में घुसकर शेयर ब्रोकर व मोबाइल डिस्ट्रीब्यूटर की पत्नी की सिर कूंचकर और चाकू मारकर हत्या कर दी गई। वह घर में अकेली थीं। हत्यारों ने किसी भारी-नोकीली वस्तु से इतनी बेरहमी से वार किए कि उनके सिर की सभी हड्डियां टूट गईं। सिर और चेहरे का बायां हिस्सा पिचक गया। चेहरे और गर्दन पर चाकू से भी वार किए गए। शाम को उनकी शिक्षिका बेटी स्कूल से घर लौटी तो खून से लथपथ उनका शव डाइनिंग टेबल के पास पड़ा मिला। एडीजी अविनाश चंद्र, आईजी आलोक सिंह, एसएसपी सोनिया सिंह फोर्स के साथ पहुंची। फोरेंसिक और डाग स्क्वायड टीम के साथ जांच की।

निशा को जिस बेरहमी से मारा गया उससे ये साफ जाहिर हो रहा है कि हत्यारा कोई करीबी ही है। उसके सिर की सभी हड्डियां टूटी थीं, दोनों गालों और गर्दन को 13 बार चाकुओं से गोदा गया। कनपटी के नीचे वाले हिस्से को किसी पत्थर से तोड़ा गया इसके बाद चेहरे का बायं हिस्सा पूरी तरह से पिचका दिया गया। इस नृशंस हत्या से पूरे शहर में सनसनी फैली है। हाईप्रोफाइल मर्डर केस होने के कारण पुलिस हर एक सुराग की बारीकी से तफ्तीश कर रही है।

एक नजर लखनऊ में पड़ी सरेआम डकैती की घटना पर –

लखनऊ में पीजीआई में सोमवार रात हुई डकैती का खुलासा भी नहीं हो पाया था कि बेखौफ बदमाशों ने राजधानी के पॉश इलाके गोमतीनगर के विवेक खंड-एक में एक और सनसनीखेज वारदात को अंजाम देकर खाकी को चुनौती दे डाली। तमंचे-चाकू से लैस डकैतों ने बिजली विभाग के रिटायर्ड इंजीनियर गिरीश पांडेय के घर पर करीब 45 मिनट तक तांडव मचाया।

पांच-छह की संख्या में आए बदमाशों ने परिवार के लोगों को बंधक बनाकर मारा-पीटा। विरोध करने पर रिटायर्ड इंजीनियर के हाथों में चाकू घोंप दिया। बेटे के सिर पर तमंचे की बट मारकर लहूलुहान कर दिया और छह लाख रुपये नकद व दो लाख रुपये के जेवरात ले गए। भागते समय वे कमरों की चाबियां भी साथ ले गए। पीड़ितों ने किसी तरह शोर मचाकर लोगों को वारदात की सूचना दी। इस मामले में केस दर्ज कर डकैतों की तलाश की जा रही है।

खिड़की के पेंच खोलकर घर के अंदर घुसे थे बदमाश !

खिड़की के पेंच खोलकर ड्राइंग रूम से घुसे, चाकू से हमला, चादर फाड़कर हाथ-पैर बांधे
बदमाश रात करीब पौने तीन बजे ड्राइंग रूम की खिड़की खोलकर गिरीश के कमरे में घुसे। इसी बीच उनकी पत्नी की नींद खुल गए। उन्होंने चिल्लाने की कोशिश की तो बदमाशों ने मुंह दबाकर तमंचा तान दिया। शोर सुनकर गिरीश उठे और बदमाशों से भिड़ गए। तब एक बदमाश ने उनके दोनों हाथों में चाकू मारकर घायल कर दिया। बदमाशों ने चादरें फाड़कर दोनों के हाथ-पैर बांध दिए और बगल के कमरे में रखी आलमारियों व सामान की तलाशी लेने गए।

कुछ बदमाश फर्स्ट फ्लोर पर प्रशांत के कमरे में घुसे। वहां उसे और उसकी पत्नी को भी बंधक बनाकर पीटा। तमंचे की बट मारकर प्रशांत का सिर फोड़ दिया और जेवर-नकदी समेट लिए। बरखा, दो बच्चों और नौकरानी दीपिका को भी बंधक बना लिया। फिर सभी को अलग-अलग कमरों में बंद किया और साढ़े तीन बजे के आसपास कमरों की चाबियां लेकर भाग गए। करीब आधे घंटे बाद प्रशांत अपने कमरे की बालकनी से निकलकर छत पर गए और शोर मचाया। चीख-पुकार सुनकर आसपास के लोग एकत्र हो गए। पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी गई।

वारदात की सूचना पाकर एसएसपी दीपक कुमार, आईजी रेंज जयनारायन सिंह, एडीजी जोन अभय कुमार प्रसाद, एएसपी उत्तरी अनुराग वत्स सहित क्राइम ब्रांच, सर्विलांस, डॉग स्क्वॉयड और फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंची। एसएसपी ने बताया कि गिरीश की तरफ से एफआईआर दर्ज करके डकैतों की तलाश की जा रही है। एसटीएफ को भी लगाया गया है। घटनास्थल के पास एक मकान बन रहा है। वहां काम कर रहे 10-12 मजदूरों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

Loading...