CM योगी आदित्यनाथ की हिन्दू युवा वाहिनी के नेताओं का सरेआम गुंडाराज और आतंक, देखें वीडियो !

0
158

नोएडा, उत्तर प्रदेश में जब से BJP की योगी सरकार आयी है,तब से प्रदेश में गुंडाराज का एक नया भगवा चलन चला है, ये दैनिक आज नहीं यूपी की जनता बोल रही है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस नयी सरकार में जिस लड़के को देखो वो भगवा गमछा गले में डालकर बाइकों और कारों में बैठकर तेजी से फर्राटा भरते हुए तथा जय श्री राम के नारे लगाते हुए महिलाओं और बुजुर्गों के बिलकुल नजदीक से गुजरते हैं, जिससे सोसाइटी में एक अजीब से डर का माहौल है।

वहीँ अगर कोई पुलिस वाला इस तरीके की बदतमीजी करने से उन्हें रोकता है तो वो पुलिस वाले के ऊपर ही हावी हो जा रहे हैं,जबकि पिछली सरकारों में ऐसा नहीं था लोगों में पुलिस का भय था,पर लगता है इन भगवा गुंडों को पुलिस से ही लड़ने में मजा आता है।

कल ऐसा ही कुछ भगवा गमछे वालों ने नॉएडा सेक्टर-16 के पास किया,जब BJP का झंडा लगी सफ़ेद रंग की TATA SAFARI STORM गाड़ी जिसका नंबर था UP16 – BL2333 तथा उस गाडी पर हिन्दू युवा वाहिनी का एक बड़ा पोस्टर लगा था। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार इस तेज रफ़्तार SAFARI STORM गाड़ी ने चौराहे पर सिग्नल तोड़ते हुए गाड़ी भगा दी,जिसके कारण एक बाइक वाला इस गाडी की चपेट में आ गया,परन्तु गाडी चालक सत्ता के नशे में इस कदर चूर था कि उसने गद्दी नहीं रोकी जबकि वो बाइक उसी SAFARI STORM गाड़ी में फसी हुयी थी और बाइक पर बैठा हुआ लड़का बुरी तरह से चोटहिल होकर पहले ही बाइक से छिटक कर दूर जा गिरा था

लोगों का कहना है कि बड़े-बड़े शब्दों में हिन्दू युवा वाहिनी लिखी हुई SAFARI STORM गाड़ी जिसका नंबर UP16 – BL2333 वो बाइक सवार को टक्कर मारने के बाद चौराहे से 500 मीटर आगे आकर रुकी क्योंकि बाइक गाडी में फस गयी थी , गाडी से एक नौजवान उतरा जिसने अपने गले में भगवा गमछा डाला हुआ था,उसने पहले बाइक को अपनी गाडी से हटाया और बुरी तरह से घायल व्यक्ति को देखने की जगह वह गाडी में बैठा और उस बाइक के ऊपर अपनी गाडी चढ़ाते हुए निकल गए। वहीँ वो घायल तड़प रहा था जिससे बाद में लोगों ने अस्पताल पहुँचाया जहाँ उसकी हालत नाजुक बनी हुयी है।

स्थानीय लोगों ने ये भी कहा की जिन पर आरोप लगते थे गुंडाराज के उन्होंने तो आज तक ऐसा नहीं किया,पर असली गुंडाराज तो हमने आज भगवा गमछा पहने तथा BJP का झंडा लगाए हुए इन हिन्दू युवा वाहिनी के लोगों के रूप में देखा हैं। हमारी आँखों के आगे से अभी भी वह भयवाह और निर्दयी मंजर नहीं जा रहा हैं।

Loading...