नरेंद्र मोदी को नीच कहने पर BJP को दस्त लग गए, मनमोहन सिंह को भला बुरा कहते समय कहां थी मर्यादा !

0
7

नई दिल्ली, कांग्रेस नेता मणि शंकर अय्यर ने एक प्रश्न के जवाब में पीएम मोदी की आलोचना करते हुए उन्हें नीच कह दिया जिससे पूरी भाजपा में भूचाल आ गया है। मोदी को नीच कहने पर भाजपा को दस्त लग गए हैं ये वही भाजपा और अमित शाह हैं जो पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को न जाने क्या – क्या कह कर सम्बोधित करती थी। कभी मौनी बाबा, कभी नपुंसक तो कभी डाकू और न जाने क्या क्या। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा हैं। जिसमें भाजपा के नेताओं द्वारा पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को कहे गए अपशब्दों को बताया गया है। इसे आप भी सुनिए और फिर फैसला करिए कि देश के सर्वोच्च पदों पर बैठे लोगों को अपशब्द कहने का सिलसिला किसने शुरू किया। आज जब भाजपा को उसी के शब्दों में किसी ने जवाब दिया है तो भाजपा को दस्त लग गए हैं।

मोदी जी ने एक बार अपनी रैली में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को देहाती औरत कहकर सम्बोधित किया था उस समय क्या मनमोहन सिंह देश के प्रधानमंत्री नहीं थे क्या तब देश के लोगों का अपमान नहीं हो रहा था जो आज हो रहा है। मोदी जी के अनुसार जो अब हो रहा है।

बता दें कि, कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर जोरदार हमला बोलते हुए ‘नीच’ आदमी तक कह दिया। हालांकि विवाद बढ़ता देख उन्होंने इस पर सफाई दी और कहा कि मुझे अच्छे से हिंदी नहीं आती। अगर इसका मतलब हिंदी में ऐसा होता है तो मैं माफी मांगता हूं।

दरअसल पीएम मोदी ने गुरुवार नेहरू परिवार पर निशाना साधते हुए कहा कि बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के जाने के बरसों बाद तक राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान को मिटाने के प्रयास किए जाते रहे, लेकिन जिस ‘परिवार’ के लिए ये सब किया गया, उस परिवार से कहीं ज्यादा लोग आज बाबा साहेब से प्रभावित हैं।

मधि के बयां का जवाब देते हुए कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने कहा, अंबेडकर जी की सबसे बड़ी ख्‍वाहिश को साकार किया जवाहर लाल नेहरू ने। इस परिवार के बारे में ऐसी गंदी बात कहीं, जबकि अंबेडकर जी की याद में एक इमारत का उद्घाटन हो रहा है यहां। मुझे लगता है ये आदमी बहुत ‘नीच’ किस्‍म का है। इसमें कोई सभ्‍यता नहीं है। ऐसे मौके पर ऐसी गंदी राजनीति की क्‍या आवश्‍यकता है।

इसके बाद इसको लेकर विवाद हो गया और अय्यर को सफाई देनी पड़ी. मणिशंकर अय्यर ने कहा, हां मैंने अंग्रेजी तें ‘नीच’ कहा था। अगर इसका मतलब हिंदी में ऐसा होता है तो मैं माफी मांगता हूं। मैं अच्‍छे से हिंदी नहीं जानता. मैंने एक शब्‍द का इस्‍तेमाल किया जिसके कई मायने निकलते हैं। जो मायना मोदी जी निकाल रहे हैं उससे मेरा कोई सरोकार नहीं है।

Loading...