बीजेपी महिला नेता ने भोजपुरी फिल्म के सीन को बंगाल का बलात्कार बताकर लोगों को भड़काया !

0
1271

हरियाणा, पश्चिम बंगाल के हालात इन दिनों सही नहीं चल रहे हैं। बंगाल धार्मिक हिंसा के आग में झुलस रहा है। हिंसा का कारण था एक नाबालिग बच्चे द्वारा फेसबुक पर पैगंबर मुहम्मद को लेकर की गई आपत्तिजनक पोस्ट है। जिसके कारण जगह – जगह आगजनी, तोड़फोड़, बम फेंकने की वारदातें सामने आई जिसके बाद इलाके में धारा 144 लगा दी गई।

बंगाल के इन हालात में पूरा देश जहां बंगाल में शान्ति बनाये रखने की प्रार्थना कर रहा है ताकि जानमाल का ज्यादा नुकशान न हो। लेकिन भाजपा इस संवेदनशील मुद्दे को और भड़काना चाहती है ताकि बंगाल में चुनावी लाभ ले सके।

हरियाणा भाजपा की महिला नेता विजेता मलिक जो की प्रदेश कार्यकारिणी की सदस्य भी हैं ने अपने फेसबुक पर एक फोटो शेयर की थी। फोटो में दिख रहा है कि एक आदमी औरत की साड़ी खींच रहा है। फोटो के साथ लिखा गया था ‘बंगाल में जो हालात हैं वो हिंदुओं के लिए बहुत बड़ी चिंता का विषय है। हिंदू को ही क्यों मारा जा रहा है और सरेआम उसकी इज्जत के साथ खेला जा रहा है। इस पर कोई कुछ नहीं बोलता और ना ही अवार्ड वापस हो रहा है। ना तो देश छोड़ कर जाने की बात हो रही है और राज्य सरकार भी हाथ पर हाथ रख कर बैठी है।’

दरअसल पश्चिम बंगाल को लेकर तरह-तरह की अफवाहें फैलाई जा रही हैं और ये काम फेसबुक पोस्ट के जरिए खुब किया जा रहा है। विजेता मलिक ने अपने पोस्ट में जिस फोटो को बंगाल की घटना से जोड़ा दरअसल वो भोजपुरी फिल्म का सीन है। फिल्म का नाम “औरत खिलौना नहीं है” जो साल 2015 में आई थी। इसमें अभिनेत्री के रूप में रिंकू घोष ने काम किया है। फोटो को विजेता मलिक ने थोड़ा काट कर लगाया था जिससे कि ये पता न चले की वो फिल्म की तस्वीर है।

ये तस्वीर अपलोड होते ही तेजी से शेयर होने लगी। तस्वीर देखकर लोग मुसलमानों पर भड़कने लगे। इस पोस्ट को अपलोड करने का मकसद शायद यही था कि हिंदूओं के जजबात को भड़काया जाए और वोटों का ध्रुविकरण किया जाए। अगर विजेता मलिक को हिंसा का विरोध करना होता तो वो असली तस्वीरों के सहारे भी कर सकती थीं।

Loading...