भारत को सीरिया बनाने में तुले BJP नेता, BJP नेता के बयान के बाद पेरियार की मूर्ति तोड़ी गई !

0
0
Photo The Hindu

नई दिल्ली, भाजपा नेताओं के विवादित बयान जिनसे देश भर में हिंसा का माहौल बन रहा है उन पर केंद्र की मोदी सरकार कोई रोक नहीं लगा रही है बल्कि उनपर कार्यवाही न करके उनके इस कृत्य को और बढ़ावा दिया जा रहा है। चाहे वो केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह हो या साध्वी निरंजन ज्योति हो या फिर योगी आदित्यनाथ हों या फिर सुरेश राणा हों या संगीत सोम हों ऐसे दर्जनों नाम हैं जो भड़काऊ भाषण देते रहे हैं जिनके भड़काऊ बयानों से देश के अंदर आपसी सौहार्द बिगड़ता है। इन भड़काऊ बयानों से बीजेपी की राजनीतिक रोटियां तो सिक जाती हैं लेकिन इनसे जो आपसी सौहार्द बिगड़ता है उसपर कुछ नहीं होता।

ऐसा ही एक मामला त्रिपुरा में देखने को मिला जहां नफरत की राजनीति की शुरुआत हो चुकी है। त्रिपुरा में भाजपा की सरकार बनते ही रुसी क्रांति के हीरो व्लादिमिर लेनिन की मूर्ति तोड़ी गई कई जगह आगजनी तोड़फोड़ की गई। ऐसी हिंसात्मक घटना को रोकने की बजाए ऐसी कायराना हरकत को बढ़ावा देते हुए भाजपा के राष्ट्रीय सचिव एच. राजा ने सोशल मीडिया में लिखा “Today Lenin, tomorrow casteist Periyar” “आज लेनिन कल जातिवादी पेरियार” इस पोस्ट के कुछ घंटों बाद ही तमिलनाडु में पेरियार की मूर्ति को नुक्सान पहुंचाया गया। नुक्सान पहुंचाने वाले कोई और नहीं भाजपा के लोग थे।

पेरियार की प्रतिमा तिरूपत्तुर निगम कार्यालय के अंदर लगी थी, जिसे रात करीब 9 बजे निशाना बनाया गया। पेरियार की मूर्ति के चश्मे और नाक को नुकसान पहुंचाया गया। मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार जिन लो लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनमें एक बीजेपी का सदस्य और दूसरा सीपीआई का कार्यकर्ता है।

इससे पहले त्रिपुरा के बेलोनिया में बुलडोजर की मदद से रूसी क्रांति के नायक व्लादिमिर लेनिन की मूर्ति को गिरा दिया गया था। मूर्ति गिराने के दौरान लोग भारत माता की जय के नारे भी लगा रहे थे। त्रिपुरा के एसपी कमल चक्रवर्ती के मुताबिक सोमवार को दोपहर 3.30 बजे के करीब बीजेपी समर्थकों ने इसे अंजाम दिया।

पेरियार की मूर्ति को नुक्सान पहुंचाए जाने के भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राजा के बयान पर द्रमुक, एमडीएमके और वाम पार्टियों सहित राजनीतिक दलों ने निंदा की थी। द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एम के स्टालिन ने उन्हें गुंडा एक्ट में गिरफ्तार करने की मांग की। राजा ने तमिल में लिखे फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘लेनिन कौन है और लेनिन तथा भारत के बीच क्या संबंध है? भारत का कम्युनिस्टों से क्या संबंध है? आज त्रिपुरा में लेनिन की प्रतिमा हटाई गई, कल तमिलनाडु में ईवी रामसामी की प्रतिमा भी हटाई जाएगी। बाद में उन्होंने यह पोस्ट हटा दिया था

राजा के पोस्ट की निंदा करते हुए स्टालिन ने कहा था कि पेरियार की प्रतिमा को किसी को ‘छ्रने तक का हक नहीं है।’ राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता स्टालिन ने संवाददाताओं से कहा था, ‘एच राजा जैसे वरिष्ठ नेता अकसर ऐसे बयान देते हैं जिससे हिंसा भड़क सकती है। मेरा विचार है कि उन्हें गुंडा एक्ट के तहत गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

Loading...