तिर्वा – भाजपा विधायक का आतंक – 200 से ज्यादा गुंडों के साथ पुलिस स्टेशन पर किया हमला और पथराव

0
218

लखनऊ, गुरुवार 13 अप्रैल को छिबरामऊ में भाजपा के विधायक और उसके गुंडों का आतंक देखने को मिला। पति की मौत के बाद कसवा चौकी क्षेत्र के गांव मेंदेपुर स्थित ससुराल में अपना हिस्सा मांगने पहुंची महिला को उसके देवरों ने पीट दिया। सूचना पर यूपी 100 पुलिस पहुंची और देवरों को पकड़ कर कोतवाली ले जाने लगी। रास्ते में कार सवार बीजेपी के दबंगों ने पुलिस को पीटकर दो लोगों को छुड़ा लिया। जिसके चलते पुलिस ने तहसील गेट पर आरोपी भाजपा नेताओं को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा और हवालात में डाल दिया।

गुरुवार को इटावा जिले के थाना ऊसराहार में आने वाले ग्राम सरसईनावर निवासी अर्चना सिंह अपने भाइयों के साथ ससुराल कोतवाली क्षेत्र के ग्राम मेंदेपुर पहुंची। उन्होंने मकान व खेत में अपना हिस्सा मांगा। ससुराल वालों से कहासुनी हो गई।

अर्चना के मुताबिक उसके देवर धर्मेंद्र, मोहित व सोनू ने उसे व उसके भाइयों को पीटना शुरू कर दिया। सूचना पर यूपी 100 नंबर के सिपाही देवेंद्र सिंह व संतोष सिंह मौके पर पहुंचे। पुलिस ने तीनों आरोपी देवरों को पकड़ लिया और कोतवाली के लिए चल दिए। रास्ते में पूर्वी मड़ैया गांव के पास एक लाल रंग की कार ने पुलिस जीप को रोक लिया और उस पर सवार आधा दर्जन युवकों ने सिपाहियों को उतारकर पीटना शुरू कर दिया। युवकों ने जीप में बैठे धर्मेंद्र व मोहित को उतार लिया। इसी दौरान चालक ने जीप भगा दी।

पुलिस वालों के पीटे जाने से विभाग में हड़कंप मच गया। कोतवाल राजबहादुर सिंह भारी भरकम फोर्स के साथ शिकायतकर्ता अर्चना सिंह को लेकर आरोपियों को ढूंढते हुए तालग्राम रोड पर जा रहे थे, तभी उन्हें सूचना मिली कि पुलिस की पिटाई करने वाले युवक तहसील पहुंच रहे हैं।

पुलिस ने लाल रंग की कार को तहसील गेट पर ही घेर लिया और उस पर सवार सौरिख थाना क्षेत्र के ग्राम उदयपुर निवासी भाजपा के पूर्व जिला महामंत्री शैलेंद्र प्रताप सिंह, कस्बा सौरिख निवासी भाजपा विधानसभा क्षेत्र प्रभारी व पूर्व जिला उपाध्यक्ष राघव दुबे व भाजपा नेता ओमी चौबे को कार से उतार कर लाठी-डंडों से दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। पीड़िता अर्चना सिंह और उसके साथ आईं रिंकी सिंह ने भी भाजपा नेताओं को पीट दिया। इसके बाद पुलिस तीनों नेताओं को जीप में डालकर सीओ आवास पर ले गई। थोड़ी देर बाद तीनों को कोतवाली लाकर हवालात में बंद कर दिया गया।

भाजपा नेताओं की पिटाई की जानकारी मिलते ही विधायक कैलाश राजपूत करीब 200 से ज्यादा भाजपाई गुंडों के साथ कोतवाली पहुंच गए। भाजपा नेता राजीव दुबे, पूर्व जिला उपाध्यक्ष मनोज दुबे, नगर अध्यक्ष दिलीप गुप्ता, नगर महामंत्री रजत त्रिपाठी सहित कई लोग कोतवाली पहुंच गए। तिर्वा विधायक कैलाश राजपूत सीओ से भाजपा नेताओं को छोड़ने के लिए दबाव बनाने लगे। लेकिन पुलिस उन्हें छोड़ने के लिए तैयार नहीं हुई। अर्चना किसी भी तरह पीछे हटने को तैयार नहीं थी।

सीओ सोमेंद्र कुमार नेगी ने बताया कि महिला की तहरीर पर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी ने बताया कि वह एक पैनल गठित कर मामले की जांच कराएंगे। दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

200 से ज्यादा भाजपा के गुंडों के साथ कोतवाली पहुंचे भाजपा विधायक ने कोतवाली के बाहर उत्पात मचाना शुरू कर दिया। विधायक के साथ आये भाजपाई गुंडों ने कोतवाली पर पत्थरबाजी शुरू कर दी और पुलिस वालों के साथ हाथापाई करने लगे। कोतवाली के बाहर और अंदर भाजपाइयों ने जमकर उत्पात मचाया।