BJP विधायक ने योगी सरकार पर लगाए गंभीर आरोप खोला सरकार के खिलाफ मोर्चा, BJP में मचा भूचाल !

0
3355
Loading...

गोंडा, उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था किसी से छिपी नहीं है। गोंडा जिले में भी कानून व्यवस्था बहुत दयनीय स्थित में है। इसके लिए योगी सरकार का लचर प्रशासन जिम्मेदार है। पुरे प्रदेश भर में दलित उत्पीडऩ के मामले तेजी से बड़ रहे हैं। पुलिस नेताओं के दबाव में अभियुक्तों पर कार्रवाई करने के बजाए उनसे सांठगाठ कर मामले को दबाने में जुटी है।

अब बीजेपी विधायक ने दलितों के ऊपर हो रहे अत्याचार के खिलाफ अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बलरामपुर सदर सीट से भाजपा विधायक पल्टू राम को प्रेस नोट जारी कर दलितों के ऊपर हो रहे अत्याचार पर अपना दर्द बयां करना पड़ा।

विधायक द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि ऐसे दर्जनों मामले मेरे संज्ञान में हैं जहां दलितों पर अत्याचार हुए। उसमें मुकदमे भी कायम नहीं हुए। तरबगंज में दलित परिवार की हत्या का दंश न झेलना पड़ता, यदि पुलिस ने समय रहते कार्रवाई करती।

विधायक पल्टू राम ने कहा कि पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रहती है और अपराधी पुलिस की जेब गरम करके दलितों का उत्पीडऩ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब पानी सिर से ऊपर जा चुका है। पीडि़त परिवार का दर्द सुनने के बाद उनकी विधवा पत्नी को मुख्यमंत्री के सामने पेश कराऊंगा, जिससे पीडि़त विधवा अपना दर्द स्वयं बता सके।

भाजपा विधायक ने कहा कि यदि इस प्रकरण में पुलिस पहले कार्रवाई करती तो शायद एक दलित की जान बचाई जा सकती थी। प्रकरण में जिम्मेदार पुलिस अधिकारियों की भूमिका की जांच होनी चाहिए। उन्होंने यहां तक कह डाला कि अपराधी से सांठगांठ कर पुलिस बड़े अभियुक्तों की मदद कर रही है, जिसका परिणाम यह है कि घटना के एक सप्ताह बाद भी अभियुक्त की गिरफ्तारी नही हो सकी।

बलरामपुर सदर सीट से भाजपा विधायक पल्टू राम ने जिले की कानून व्यवस्था पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है। उन्होंने कहा कि दलित उत्पीडऩ की घटनाएं लगातार प्रदेश में बढ़ रही हैं। पुलिस अपराधियों से जेब गरम कर उन्हें खुले आम घूमने की इजाजत देती है, लेकिन जिले की सातों विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है फिरभी जिले के किसी भी विधायक ने कानून व्यवस्था पर सवाल नही उठाया।

सूत्र बताते हैं कि यह प्रकरण एक ट्रांसपोर्ट से जुड़ा होने के कारण इसमें सत्ताधारी दल के बड़े नेता भी शामिल हैं। कहां तो यह भी जा रहा है कि उन सफेदपोशों के कुछ कारिंदे भी इस घटना में लिप्त हैं और उन पर कार्रवाई होना सत्ता के कुछ दिग्गजों को नागवार गुजरा, जिससे अब वे पुलिस की किरकिरी करने में जुट गए हैं।

Loading...