यूपी में गुंडाराज की बात करने वाली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के ऊपर हत्या सहित दर्जनों मुकदमें हैं दर्ज, देखें ये रिपोर्ट

0
133
Bhartiya janta Party State President Keshav Maurya along with State Genral Seceretary of Uttar Pradesh Sunil Bansal and other senior leaders hold a meeting of party's district and city Presidents in Lucknow at state party head office in Lucknow on saturday.Express photo by Vishal Srivastav 21.05.2016

लखनऊ, उत्तर प्रदेश में सुशासन का वादा कर के सत्ता में काबिज होने का सपना देख रही भाजपा ने प्रदेश की बागडोर ऐसे शख्स को सौंप रखी है जिसके खुद के ऊपर हत्या समेत दर्जनों मुकदमें दर्ज हैं। यूपी में चुनाव प्रचार के लिए दर्जनों सभाओं में भाषण देने वाले केशव प्रसाद मौर्या प्रदेश को गुंडाराज मुक्त बनाने की बात करते हैं जबकि वो खुद कानून के हिसाब से एक बे गुंडे हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अपने भाषणों में कहते है कि उत्तर प्रदेश को गुंडाराज मुक्त बनाना है जबकि उन्होंने उत्तर प्रदेश की बागडोर केशव प्रसाद मौर्या को सौंप रखी है जो अभी तक अपने ऊपर लगे दागों को नहीं छुटा पाए हैं।

जब केशव प्रसाद मौर्या को यूपी में प्रदेश अध्यक्ष पद की ज़िम्मेदारी दी गयी थी तब भी इसको लेकर बवाल हुआ था लेकिन बीजेपी ने सभी आलोचना को दरकिनार कर दिया था।.

2014 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान केशव मौर्या ने निर्वाचन आयोग में जो हलफनामा दायर किया था उसमें उन्होंने इसका जिक्र किया है कि उनके ऊपर कितने मुकदमें दर्ज हैं। जिसमें हत्या, लूट, दंगा करवाना, धार्मिक भावनाएं भड़काना, घर पर चोरी करवाना आदि हैं।

केशव प्रसाद मौर्य का आपराधिक रिकॉर्ड

  • धारा 302/120 B थाना कोखराज़, जनपद कौशांबी
  • धारा 153 A/188 थाना कोखराज़. जनपद कौशांबी
  • धारा 147/148/153/153 A/352/188/323/ 504 /506 थाना मंझनपुर, जनपद कौशांबी
  • धारा 147/295 A/153 थाना मोहम्मदपुर पाईसा, जनपद कौशांबी
  • धारा 420/467/465/171/188 थाना मोहम्मदपुर पाईसा, जनपद कौशांबी
  • धारा 147/352/323/504/506/392 थाना मंझनपुर, जनपद कौशांबी
  • धारा 153 A/353/186/504/147/332 थाना पश्चिम शरीरा, जनपद कौशांबी
  • धारा147/332/504/332/353/506/380 थाना कर्नलगंज, जनपद इलाहाबाद
  • धारा 147/148/332/336/186/427 थाना कर्नलगंज, जनपद इलाहाबाद
  • धारा 143/353/341 थाना सिविल लाइन, जनपद इलाहाबाद

चुनाव आयोग में दाखिल किये गए हलफनामे का विवरण

मामले जहां संज्ञान लिया

सीरीयल नम्बर। खिलाफ आईपीसी की धारा लागू अन्य विवरण / अन्य अधिनियमों / धारा लागू
1 147, 332, 353, 153 ए, 504 7 C.LAW अधिनियम। मामला संख्या। 77/1996 पुलिस स्टेशन Paschimsharira जनपद कौशाम्बी उत्तर प्रदेश
2 143, 323, 504, 332, 353, 506, 380, 427, 7 C.LAW अधिनियम। 3/5 सार्वजनिक संपत्ति निवारण PSKarnailganj इलाहाबाद अपराध सं 431/1998 पुलिस स्टेशन Karnalganj इलाहाबाद यूपी
3 147, 148, 427, 323, 504, 506, 342, 448 प्रकरण No.548A / 1997 पुलिस स्टेशन JaurjTown इलाहाबाद यूपी
4 147, 295A, 153 ए मुकदमा संख्या 82/2011 पुलिस स्टेशन Mohbatpur पैसा जनपद कौशाम्बी उत्तर प्रदेश
5 420, 467, 468, 471, 188 मुकदमा संख्या 83/2008 पुलिस स्टेशन Mohbatpur पैसा जनपद कौशाम्बी उत्तर प्रदेश
6 147, 148, 153, 153 ए, 352, 188, 323, 504, 506 मुकदमा संख्या 218/2011 थाना मंझनपुर जनपद कौशाम्बी उत्तर प्रदेश
7 302, 120 बी 7 सीएलए एक्ट। मुकदमा संख्या 470/2011 थाना Kokhraj जनपद कौशाम्बी
8 153 ए, 188 मुकदमा संख्या 571/2011 थाना Kokhraj जनपद कौशाम्बी उत्तर प्रदेश
9 2/3 यूपी गैंगस्टर एक्ट मुकदमा संख्या 621/2011 थाना सैनी जनपद कौशाम्बी उत्तर प्रदेश

मामलों में जहां दोषी करार

सीरीयल नम्बर। खिलाफ आईपीसी की धारा लागू अन्य विवरण / अन्य अधिनियमों / धारा लागू
——— कोई मामलों ——–

IPCs का संक्षिप्त विवरण

धर्म, जाति, जन्म, निवास, भाषा, आदि की जगह है, के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देना और कर से संबंधित 4 आरोपों सद्भाव के रखरखाव के प्रतिकूल कार्य करता है (भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए-)


रिहायशी घर में चोरी करने के लिए संबंधित 1 शुल्क, आदि (आईपीसी की धारा -380)


इसका धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करने से जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कृत्य, आक्रोश धार्मिक भावनाओं या किसी भी वर्ग के लिए इरादा से संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा-295A)


हत्या से संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा-302)


दंगे के लिए सजा से संबंधित 4 प्रभार (आईपीसी की धारा-147)


इरादे से जानबूझकर अपमान से संबंधित शांति भंग करने के आरोप भड़काने के लिए 4 (आईपीसी की धारा -504)


3 अवज्ञा से संबंधित आरोपों विधिवत लोक सेवक द्वारा प्रख्यापित आदेश को (आईपीसी की धारा-188)


3 स्वेच्छा से चोट पहुंचाने से संबंधित आरोपों (आईपीसी की धारा-323)


3 आपराधिक धमकी से संबंधित आरोपों (आईपीसी की धारा-506)


2 आरोपों स्वेच्छा से अपने कर्तव्य से लोक सेवक रोकते चोट पहुंचाने से संबंधित (आईपीसी की धारा 332)


हमला या आपराधिक बल से संबंधित अपने कर्तव्य के निर्वहन से लोक सेवक रोकते 2 प्रभार (आईपीसी की धारा-353)


पचास रुपए की राशि को नुकसान हो सकता शरारत से संबंधित 2 प्रभार (आईपीसी की धारा-427)


दंगों से संबंधित 2 प्रभार, घातक हथियार से लैस (आईपीसी की धारा-148)


धोखाधड़ी के उद्देश्य से जालसाजी से संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा-468)


के रूप में वास्तविक फर्जी दस्तावेज या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड का उपयोग करने के लिए संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा 471-)


संबंधित 1 आरोपों बेहूदगी पैदा करने के इरादे से उत्तेजना देने के लिए दंगा-यदि दंगा करने के लिए प्रतिबद्ध है, अगर हो प्रतिबद्ध नहीं (आईपीसी की धारा-153)


कब्र पर उत्तेजना से अन्यथा हमला या आपराधिक बल से संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा-352)


आपराधिक साजिश की सजा से संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा 120 बी-)


सजा से संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा-143)


गलत तरीके से बंधक से संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा-342)


घर-अतिचार से संबंधित 1 प्रभार (आईपीसी की धारा-448)


धोखा से संबंधित 1 शुल्क और संपत्ति का बेईमानी से उत्प्रेरण वितरण (आईपीसी की धारा-420)


मूल्यवान सुरक्षा की जालसाजी से संबंधित 1 आरोपों होगा, आदि (आईपीसी की धारा-467)

 

http://docs2.myneta.info/affidavits/ews3ls2014/8081/KESHAVPRASAD.pdf

Loading...