मायावती और अखिलेश आ सकते हैं एक साथ, बसपा सुप्रीमों ने दिए संकेत, देखें क्या कहा

0
31
Loading...

लखनऊ, उत्तर प्रदेश के चुनाव में अबतक का सबसे खराब प्रदर्शन करने के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपनी रणनीति में बदलाव के संकेत दिए हैं। चुनाव से पहले किसी भी पार्टी से गठबंधन न करने के अपने फैसले को बदलते हुए उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में उनकी पार्टी भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ किसी भी पार्टी से गठबंधन कर सकती हैं।

लखनऊ में आज बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा कि लोकतंत्र बचाने के लिए बसपा किसी भी पार्टी से हाथ मिला सकती है।

मायावती से पहले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने संकेत दिए थे कि समय आने पर उन्हें मायावती से कोई परहेज नहीं होगा।

डॉ भीम राव अम्बेडकर सामाजिक परिवर्तन स्थल पर आयोजित जयंती समारोह में मायावती ने बाबा साहब को श्रद्धांजलि दी और समर्थकों को सम्बोधित किया।

इस दौरान मायावती ने कहा कि अब जहर से जहर को काटने का काम किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बसपा किसी से भी हाथ मिलाने को तैयार है। इस दौरान मायावती ने कहा कि वोट के लालच में बाबा साहब के अनुयाइयों का उत्पीड़न करने वाले लोग उनकी जयंती मना रहे हैं।