सीमा पर युद्ध के हालात : LoC पर पाक सेना ने दागे मोर्टार,7 से ज्यादा गांवों को बनाया निशाना 2 की मौत !

0
51

जम्मू-कश्मीर : रविवार सुबह पाकिस्तान ने एक बार फिर सीजफायर का उल्लंघन किया। पाक ने युद्धविराम का उल्लंघन राजौरी के चिंगस क्षेत्र में किया है। अभी इस सीजफायर उल्लंघन में किसी भी तरह के नुकसान की खबर नहीं मिली है।

पाकिस्तान ने इस बार अपनी इस नापाक हरकत में छोटे हथियारों जिनमें 82 मिमी और 120 मिमी के मोर्टारों से अंधाधुंध फायरिंग की शुरुआत की है। वहीं भारतीय सेना ने पाकिस्तान की गोलाबारी का मजबूती से जवाब दिया है।

पाकिस्तान ने इस फायरिंग के जरिए राजौरी के मंजाकोट क्षेत्र के सात से ज्यादा गांवों को निशाना बनाया है। फायरिंग अभी भी लगातार जारी है।बता दें शनिवार को भी पाकिस्तानी सेना ने सीजफायर का उल्लंघन किया था। राजौरी के नौशेरा सेक्टर में पाक सेना ने भारी मोर्टार दागे थे जिसमें 2 ग्रामीणों की मौत हो गई थी जबकि 4 ग्रामीण घायल हो गए था।

भारतीय सेना ने जवाबी कार्यवाई में पाक की कई चौकियां ध्वस्त कर दी थीं। सेना की कार्रवाई में कई पाक रेंजर भी घायल हुए थे।

सरहद पर गोलाबारी से ग्रामीणों में दहशत, सैकड़ों लोगों ने गाँव छोड़ कैंपों में ली शरण,गोलीबारी में 2 गाँवालों की मौत हो चुकी है !

बार्डर और एलओसी पर फायरिंग होने के बाद लोगों में दहशत का माहौल है। लोगों ने एहतियातन अपने मवेशियों खुद को सुरक्षित रखना शुरू कर दिया है। लोगों का कहना है कि पाकिस्तान का कोई भरोसा नहीं कि कब फायरिंग शुरू कर दे। वहीं, नौशेरा फायरिंग में घायल एक महिला को जीएमसी में भर्ती कराया गया है।

एक दिन पहले ही अरनिया बार्डर पर पाकिस्तान ने पहले बीएसएफ की पार्टी और फिर बीएसएफ पोस्ट पर गोलाबारी की। सूत्रों का कहना है कि इससे पहले गुरूवार की रात को भी एक राउंड फायर हुआ था, लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया। बासपुर रहने वाले देवराज का कहना है कि अपने आप का बचाव ही इस समय सुरक्षित रहने का सबसे बड़ा काम है।

क्योंकि पाक की तरफ से कभी भी गोलाबारी कर दी जाती है। पिछले साल भी ऐसा ही हुआ था और इसमें कई मवेशी मारे गए। अब्दुलियां के चौधरी का कहना है कि अचानक फायरिंग होने से गांव को बहुत ज्यादा नुकसान होता आया है। इसमें चाहते मानव हो या मवेशी या फिर लोगों के घर हों।

संभलने का नहीं मिला मौका
नौशेरा में हो रही फायरिंग में घायल होकर जीएमसी पहुंची जैतुन बेगम का कहना है कि संभलने का मौका ही नहीं मिला। पता तो था कि पाक की तरफ से रुक रुक फायरिंग हो रही है। इससे पहले कि वह कहीं सुरक्षित जगह जाती। वह अपने घर के सभी सदस्यों को सुरक्षित स्थान के लिए दूसरी जगह जा रहे थे और एक छर्रा उनको आकर लग गया।

Loading...