पब्लिक के सामने सरे आम झूठ बोलने वाला पहला योगी, देखें भरे मंच से क्या झूठ बोला योगी आदित्यनाथ ने !

0
2532
Loading...

लखनऊ, भारतीय जनता पार्टी से गोरखपुर के सांसद एवं वर्तमान मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ एक झूठे इंसान है ऐसा हम नहीं कह रहे है ऐसा उनके भाषण से पता चला है। यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने भारतीय संविधान निर्माता डॉ. बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के स्मारक का अनावरण किया था।

इस दौरान उन्होंने कहा कि नागपुर में जहां बाबा साहब ने बौद्ध धर्म ग्रहण करने के मौके पर दीक्षा ली थी, उस जगह को भव्य स्मारक के रूप में बनाने का काम किसी ने किया तो देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। इतिहास इस बात का गवाह है कि 1956 में बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर ने नागपुर में दीक्षा ली थी और अपने अनुयायियों के साथ बौद्ध धर्म को अपना लिया था।

नागपुर स्थित डॉ. अंबेडकर जन सेवक समाज के जनरल सेक्रेटरी अशोक आर्य ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के इस बयान को झूठा करार दिया। उन्होंने बताया कि नागपुर में इस स्मारक का उद्घाटन उस समय राष्ट्रपति रहे के.आर. नारायणन ने 18 दिसंबर 2001 को किया था।

उन्होंने कहा कि यह एक बहुत बड़ा झूठ है कि मोदी ने दीक्षाभूमि में स्मारक को बनवाया है। आर्य ने कहा कि अंबेडकर हिंदुत्व का विरोध करते थे और हिंदुत्व सीएम योगी की लाइफलाइन है। मैं योगी से डॉ. अंबेडकर के बारे में किसी भी तरह के सम्मान की अपेक्षा नहीं कर सकता।

आपको बता दें कि जब स्मारक का उद्घाटन हुआ था तब नरेंद्र मोदी को गुजरात के मुख्यमंत्री बने दो महीने ही हुए थे। मोदी की इस प्रतिमा के निर्माण में कहीं कोई भूमिका नही है। इसके उद्घाटन के मौके पर पी.सी अलेक्जेंडर, तत्कालीन मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख और उपमुख्यमंत्री छगन भुजबल भी मौजूद रहे थे। उस समय वहां कांग्रेस की सरकार थी।