भाजपा और आरएसएस के लोग चुनाव के पहले हिंसा भड़काने की फिराक में, पढ़े पूरी खबर

0
142

लखनऊ, वामपंथी दलों की एक बैठक भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी के राज्य कार्यालय 10 विधानसभा मार्ग लखनऊ में सम्पन्न हुई बैठक में बिजनौर में हुई हिंसात्मक घटना की तीव्र निंदा करते हुए हिंसा में लिप्त लोगों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने और नामजद अभियुक्तों को फौरन गिरफ्तार करने की मांग की गयी।

वामपंथी दलों की मौके पर गयी टीम की जांच से स्पष्ट होता है कि घटना के पीछे भाजपा नेताओं और माफियाओं का हाथ है।

लडक़ी से छेडख़ानी का विरोध करने वालों पर भाजपा नेता ने गोलियां चलायी और सुनियोजित तरीके से दूसरे लोगों को भी हमला करने के लिए प्रेरित किया।

बिजनौर की घटना से एक बार और प्रमाणित हो गया कि भारतीय जनता पार्टी व आरएसएस के लोग 2017 के विधानसभा चुनाव तक साम्प्रदायिक तनाव और हिंसा को बढ़ाने का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं ताकि वोटों का धु्रवीकरण किया जा सके।

बैठक में तय किया गया कि जनता के बुनियादी सवालों को लेकर और साम्प्रदायिकता के खिलाफ अक्टूबर माह में प्रदेश भर में वामपंथी दलों की तरफ से अभियान चलाया जायेगा और 9 नवम्बर को लखनऊ में एक रैली की जायेगी।

बैठक की अध्यक्षता सीपीआई के राज्य सचिव डा. गिरीश शर्मा ने की। बैठक में सीपीआई एम के राज्य सचिव डा. हीरालाल यादव, एस. पी. कश्यप, सीपीआई माले के राज्य सचिव रामजी राय, सुनील, सीपीआई के अरविन्द राज स्वरूप, एसयूसीआई सी के लक्ष्मण वर्मा, जयप्रकाश मौर्या, फारवर्ड ब्लाक के विजयपाल सिंह व सुभाषचन्द्र आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Loading...