जयपुर की गोशाला गायों के लिए बनी कब्र, भूख से कीचड़ में फंसकर मर रही है रोजाना 40 गाय

1
45
Loading...

राजस्थान की राजधानी जयपुर स्थित हिंगोनिया गोशाला में कीचड़ और दलदल के कारण दो सप्ताह में 500 गायों ने दम तोड़ दिया है।

यहां 65 ट्रॉली गोबर रोजाना निकलता है। दो माह से बाड़ों से गोबर नहीं उठा है। इसे ढकने के लिए जयपुर नगर निगम ने मिट्टी डलवा दी, जो गोबर के साथ मिलकर दलदल बन गई है।

cow-3

गोशाला में हाईकोर्ट के आदेश के बाद सिविल वर्क हुए। बाड़े व पक्के शेड्स बनाए गए, लेकिन पानी निकलने की व्यवस्था नहीं की। सड़कों का पानी बाड़ों में भर रहा है।

राजस्थान हाईकोर्ट ने बृहस्पतिवार को इस घटना पर गहरी चिंता जताई।

जानकारी के अनुसार पिछले दो दिनों में मरने वाली गायों की संख्या 90 है। न्यायाधीश महेश चन्द्र शर्मा की अदालत ने कहा कि आखिर जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ क्या कार्रवाई हो रही है?

cow-5

अदालत ने कहा कि अधिकारियों की इच्छा शक्ति के बगैर हालात नहीं सुधर सकते। अधिकारियों की इच्छा शक्ति के बगैर गायों की मौत नहीं रुक सकती।

सूत्रों के अनुसार बारिश के चलते जुलाई से हालत ज्यादा खराब हो गई है। कर्मचारियों को तीन महीने से तनख्वाह नहीं मिली तो उनका काम छोड़ हड़ताल पर जाना गायों पर भारी पड़ा।

अब प्रशासन ने बृहस्पतिवार को रस्सियों से बांधकर गायों को बाहर निकालने का काम शुरू किया है।

गोशाला को सरकार 15 करोड़ रुपये सालाना देती है, जो चारे-पानी, 17 चिकित्सक और 40 नर्सिंग कर्मियों पर खर्च होते हैं।

cow-6

क्या कहते हैं आंकड़े
1200 गायों की मौत हर महीने, 40 गायें रोजाना मर रही
5 फीट तक दलदल हर बाड़े में 40 गायें रोज आईसीयू जाती हैं
60 कर्मचारी काम पर हैं, 199 को वेतन नहीं मिला।

हाईकोर्ट ने हिंगोनिया गोशाला में गायों की मौत पर एसओजी के आईजी दिनेश एमएन से रिपोर्ट मांगी है। अदालत ने दिनेश एमएन से कहा कि नगर निगम के किसी अफसर ने बाेवाइन एक्ट के तहत क्राइम किया है अौर इन्हें इसके लिए पुलिस अफसर या अन्य कानूनी प्राधिकरण की जरूरत है तो वे उसे ले सकते हैं।

बाद में एसीबी टीम के साथ एडिशनल एसपी बजरंग सिंह भी हिंगोनिया पहुंच गए और गोशाला के प्रभारी हरेंद्र सिंह व चेयरमैन भगवतसिंह देवल से पूछताछ की। जांच दल ने बंद कमरे में बैठक कर गुप्त रिपोर्ट तैयार की है, जिसे हाईकोर्ट में पेश किया जाएगा।

Loading...

1 COMMENT

Comments are closed.