योगीराज में अपराधी बेख़ौफ़ – दबंग प्रधान के गुर्गे ने दलित महिला से की रेप की कोशिश, देखें वीडियो

0
108
loading...

लखनऊ, यूपी की बीजेपी सरकार में अपराधियों और बलात्कारियों के हौसले बुलन्द हैं। जिसका एक और नमूना इटावा जिले में देखने को मिला यहां के थाना ऊसराहार के ग्राम भरतपुर खुर्द में एक दलित महिला से छेड़-छाड़ का मामला सामने आया है। जिसका पति राज शंकर जाटव मिस्त्री का काम करता है और अपने परिवार का भरण-पोषण करता है।

राम शंकर जाटव अपने किसी रिश्तेदार के यहां शादी में गया था। जिसकी भनक दबंग प्रधान राजीव गुप्ता के गुर्गे बाबा को लग गई। मौका पाकर वह दलित महिला के घर में घुस गया और दलित महिला से छेड़-छाड़ करने लगा। महिला के शोर मचाने पर वो वहां से भाग निकला।

जब इस घटना की जानकारी दलित महिला के पति को मिली तो वह रिश्तेदारी से वापस आया और गांव के कुछ युवकों के साथ उस मनचले की तलाश में जुट गया। जैसे ही मनचला परिजनों व ग्रामीणों के हत्थे चढ़ा तो उन्होंने उसे जमकर धुन दिया।

आपको बता दें कि शातिर किस्म का अपराधी मनचला राजीव कुमार गुप्ता के घर पर रहता था। राजीव कुमार गुप्ता भी एक शातिर किस्म का अपराधी है। जो कई वारदातों की प्लानिंग करके दूसरे के कंधे पर रखकर बंदूक चलाने का काम करता है। यह ग्राम पंचायत भरतपुर खुर्द का मौजूदा दबंग प्रधान है। जो आए दिन अपनी दबंगई के बल पर खौफनाक वारदातों को अंजाम देता रहता है। इसी के चलते यह अपने यहां कुछ ऐसे गुर्गों को पाले रहता है।

दबंग प्रधान राजीव गुप्ता के इस गुर्गे को जब काम वासना की इच्छा जाग्रत हुई तो वह इधर-उधर भटकने लगा। लेकिन इसको कहीं भी मौका नहीं मिला। एक दिन यह बाबा नाम का युवक व्यक्ति राजीव गुप्ता दबंग प्रधान के पंचायत में काम वासना के चक्कर में घूमने लगा, तो इसने इस दलित महिला को घर पर अकेले देखा और इसके घर में घुस कर इस दलित महिला से छेड़-छाड़कर करने लगा। जिसका विरोध दलित महिला ने किया और जोर-जोर शोर मचाने लगी। तो गांव के काफी लोग एकत्र हो गए। मौका पाकर यह बाबा नाम का शातिर मनचला वहां से भाग गया।

दबंग प्रधान की थाने में पुलिस से अच्छी सांठ-गांठ है। सूत्रों की मानें तो पीड़ित दलित महिला अपने पति के साथ थाने में तहरीर देने गई, लेकिन इसने अपनी दबंगई के बल पर उस दलित महिला की रिपोर्ट नहीं लिखने दी। इस दबंग प्रधान ने इस दलित महिला के परिजनों पर दवाब बनाया। अब वह दलित महिला और इसके परिजन इतने भयभीत हैं कि वह आप बीती बताने से मना करते हैं। अब देखना है कि इस दलित महिला को न्याय मिलता है या नहीं।

Loading...