यूपी में योगी का रामराज या जंगलराज – नल से पानी लेने पर दबंग ने दलित को उतारा मौत के घाट

0
168

लखनऊ, यूपी में बीजेपी सरकार का रामराज चल रहा या जंगलराज जहाँ आम आदमी तो क्या पुलिस भी सुरक्षित भी नहीं है। दबंगों और गुंडों का आतंक इस कद्र कहर बन कर टूट रहा है कि पूरे प्रदेश में चारो तरफ अराजकता का माहौल पैदा हो गया है। अपराधी और दबंग इतने बेख़ौफ़ है कि उन्हें इंसानों की जान की कोई परवाह नहीं है।

बुंदेलखंड के बबेरू इलाके में एक दलित की कुल्हाड़ी से काटकर इसलिए हत्या कर दी गई क्योंकि उसने सार्वजनिक नल से पानी भर लिया था। भीषण गर्मी में इस शख्स ने अपने बच्चों की प्यास बुझाने के लिए नल से पानी भरना चाहा तो एक दंबग ने उसे ऐसा करने से मना कर दिया। उसने दबंग से मिन्नत करते हुए कहा, घर में एक बूंद पानी नहीं है भैया… छोटे-छोटे बच्चे प्यास से बिलख रहे हैं, बीवी राह देख रही है, हमें पानी लेकर जाये देयो.. इतना कह वह फिर से पानी भरने लगा। फिर जो हुआ वह दिल दहला देने वाला दृश्य देखकर सबकी आंखे फटी रह गई।

दबंग ने ताबड़तोड़ दलित के सिर पर कुल्हाड़ी से कई वार किए। शख्स अचेत होकर वहीं गिर पड़ा। उसके हाथ से पानी भरा बर्तन वहीं लुढ़क कर गिर गया। नल के पास रक्त रंजीत पड़े उस शख्स को देख पूरा गांव सन्न रह गया। बाद में गंभीर हालत में उसे कानपुर के एक बड़े अस्पताल ले जाया गया। एक दिन तक इस शख्स की सांसे जिंदगी और मौत के बीच झूलती रही लेकिन आखिर में उसने दम तोड़ दिया। दबंग ने इतने बुरे तरीके से उसके सिर पर कुल्हाड़ी से वार किए थे। आखिर जान बचती भी कैसे।

तुम दलित हो यहां से पानी लेकर नहीं ले सकते…

बबेरू के भदेहदु गांव में रहने वाला हरिजन शिव मोहन (35) मजदूरी करता था। उसके परिवार में पत्नी सुशीला और छह बच्चे हैं। हैलट में आए भाई शत्रुघभन ने बताया कि गुरुवार को शिव मोहन गांव में लगे सार्वजनिक नल में पानी भरने गया था। तभी गांव के दबंग राम भवन पटेल ने यह कहकर पानी भरने से रोक दिया कि तुम दलित हो। भाई ने घर में एक बूंद भी पानी न होने की बात कही, तो भी राम भवन नहीं माना।

इस पर शिव मोहन वहां से चला गया। राम भवन के जाने के बाद वह फिर से नल में पहुंच गया। पानी भरकर ले जाते समय राम भवन वहां पहुंच गया और घर से कुल्हाड़ी लाकर राम भवन के सिर पर मार दी।

लहूलुहान हालत में उसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। यहां से उसे कानपुर के हैलट अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। शुक्रवार देर रात शिव मोहन की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि वे लोग थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे थे लेकिन पुलिस वालों ने यह कहकर टरका दिया कि पहले इलाज कराना जरूरी है, रिपोर्ट तो बाद में भी हो जाएगी।

Loading...