UP चुनाव की वजह से छात्रों के लिए मुश्किल हुआ NEET का Exam, 15 दिन का समय नहीं मिला Exam की तैयारी का

0
46
Loading...

लखनऊ, 2016 से MBBS और BDS में एडमिशन पाने के लिए NEET की परीक्षा पास करना अनिवार्य है पर इस वर्ष से समस्त कोर्सो (MBBS,BDS,BAMS,BAMS,BUMS) में प्रवेश हेतु एक ही प्रवेश परीक्षा होनी है। यूपी में हुए विधानसभा चुनाव की वजह से 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के समय में बदलाव किया गया था जिसके चलते बोर्ड परीक्षाएं 1 महीने से ज्यादा लेट हो गई। परीक्षाएं देरी से होने का असर NEET के Exam पर पढ़ रहा है। छात्रों को बोर्ड परीक्षाओं की वजह से NEET के Exam के लिए छात्रों को समय नहीं मिल पा रहा है। अब यूपी के मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट (योगी आदित्यनाथ) से NEET की परीक्षाओं के समय को बदलने की मांग की गई है। देखना ये है कि सीएम योगी आदित्यनाथ इन मांगो को मानते है या नहीं।

लखनऊ के प्रदीप चौधरी ने सीएम योगी आदित्यनाथ के नाम खत लिखकर NEET Exam की तिथियों में बदलाव की मांग की है।

सीएम योगी आदित्यनाथ को लिखा गया खत –

सेवा में,
मुख्यमंत्री यूपी
5 कालिदास मार्ग लखनऊ।
विषय- चिकित्सा प्रेवश परीक्षा NEET 2017 के परीक्षा तिथी के बदलाव के सम्बंध में।
महोदय,
जैसा कि आपको विदित होगा कि पिछले वर्ष 2016 से MBBS और BDS हेतु NEET अनिवार्य हो गया है।
पर इस वर्ष से समस्त कोर्सो (MBBS,BDS,BAMS,BAMS,BUMS)में प्रवेश हेतु एक ही प्रवेश परीक्षा होती है।
जो कि 7मई 2017 को होनी तय है,

पूर्व वर्षो में राज्य की मेडिकल प्रवेश परीक्षा CPMT मई के अन्त या जून में होती थी।तथा 12वी बोर्ड की परीक्षाएं मध्य मार्च में खत्म हो जाती थी और सवाल भी यूपी बोर्ड की किताब से पूछे जाते थे,जिससे विद्यार्थियों को 2 माह से ऊपर का समय रेविशन के लिए मिल जाता था, जिससे ग्रामीण छेत्र के विद्यार्थी जो महँगी कोचिंग नही कर सकते थे,भी डॉ बन जाते थे,पिछले वर्ष से NEET लागू हुआ जिसमें NCERT की पुस्तकें जो कि अभी तक यूपी बोर्ड का हिस्सा नही है से सवाल पूछे जाते है, जिसके तैयारी के लिए माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्देष पर NEET को 26 जुलाई को कराया गया। तथा आयुष के कोर्स के लिए अलग से प्रवेश परीक्षा 23 सितम्बर को प्रदेश सरकार द्वारा करायी गयी थी। पर इस बर्ष इस बार चुनाव के कारण बोर्ड परीक्षाएं 1 माह से ऊपर की देरी से यानी 22अप्रैल तक चलेंगी जब कि NEET की परीक्षा 7 मई को है,

जिससे यूपी बोर्ड के विद्यार्थियों को रिवीजन करने और NCERT पढ़ने का समय नही मिल पा रहा, विगत वर्षों में एटेम्पट लिमिट भी नही थी जो कि अब 3 बार निर्धारित कर दी गयी है। MBBS BDS में प्रवेश की अंतिम तिथि 31 सितम्बर है।जिसमे अभी 5 महीने का समय बाकी है।

अतः आप से अनुरोध है कि यूपी बोर्ड तथा ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों की मेधा की रक्षा के लिए,इस एग्जाम को कम से कम 2 माह तक टालने की कृपया करे।