चुनाव आयोग या मोदी आयोग – पहले गुजरात चुनाव में देरी, अब 3550 EVM टेस्ट में फेल, कैसे होगा निष्पक्ष चुनाव !

0
86

अहमदाबाद, उत्तर प्रदेश चुनाव में EVM को लेकर तमाम सवाल उठाए गए जिनका चुनाव आयोग आजतक कोई ठोस जवाब नहीं दे सका है। तो एकबार फिर से चुनाव आयोग शक में घेरे में है। वैसे तो चुनाव आयोग एक स्वतंत्र संस्था है मगर गोदी मीडिया के दौर में क्या CBI क्या RBI और क्या चुनाव आयोग कोई भी स्वतंत्र संस्था नहीं बची है।

भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि चुनाव आयोग ही कटघरे में खड़ा हो और उसकी निष्पक्षता पर सवाल उठ रहे हो। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड चुनाव में EVM मशीन को लेकर भारी गड़बड़ी की शिकायतें सामने आई थी। अब एक बार फिर गुजरात चुनाव में इस्तेमाल की जाने वाली EVM पर सवालिया निशान लग रहा है।

जानकारी के मुताबिक गुजरात चुनाव में इस्तेमाल की जाने वाली 3550 वीवीपीएटी (वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) मशीनों को चुनाव आयोग ने खराब पाया। सबसे ज्यादा खराब वीवीपीएटी मशीनें जामनगर, देवभूमि द्वारका और पाटन जिले में पाई गईं।

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, कुछ अधिकारियों ने बताया कि गुजरात में कुल 70,182 वीवीपीएटी मशीनें इस्तेमाल की जानी हैं। गुजरात के मुख्य चुनाव आयुक्त बीबी स्वाईं ने कहा कि खराब मशीनों को उनके कारखाने में वापस भेजा जाएगा। जिन मशीनों में मामूली तकनीकी खराबी है उन्हें दुरुस्त किया जा सकता है।

एक वरिष्ठ चुनाव अधिकारी के अनुसार खराब पाई गईं वीवीपीएटी मशीनों में सेंसर के काम न करने, प्लास्टिक के पुर्जों के टूटे हुए होने और मतदान पेटी (ईवीएम) से जोड़ने में दिक्कत होने जैसी समस्याएं पाई गईं। चुनाव आयोग ने मतदान के दौरान खराब हो जाने वाली वीवीपीएटी को बदलने के लिए 4150 अतिरिक्त मशीनों मंगाई हैं। गुजरात में कुल 182 विधान सभा सीटे हैं। गुजरात में दो चरणों में मतदान होगा।

पहले चरण का मतदान नौ दिसंबर को होगा जिसमें कुल 89 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। दूसरे चरण का मतदान 14 दिसंबर को होगा जिसमें बाकी 93 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे। चुनाव के नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे।

चुनाव आयोग पर सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि चुनाव आयोग ने पहले तो चुनाव की तारीखें घोषित करने में बिना वजह देरी की उसके बाद अब मशीनों में गड़बड़ी की शिकायतों से चुनाव आयोग पर फिर से सवाल उठबरहे हैं। बता दें कि वर्तमान चुनाव आयोग के प्रमुख गुजरात में मोदी सरकार के दौरान मोदी जी के चीफ सेक्रेटरी राह चुके हैं।

एमपी में पकड़ा गया ईवीएम घोटाला, बटन कोई भी दबाये पर्ची निकल रही कमल की, देखिए वीडियो

Loading...