सहारनपुर में एकबार फिर भड़का जातीय दंगा, हिंसा में एक व्यक्ति की मौत, छह घायल !

0
90

लखनऊ, उत्तर प्रदेश का सहारनपुर जातीय हिंसा की आग में धधक रहा है कोई पता नहीं ये चिंगारी कब शोला बन जाए और पुरे प्रदेश को अपनी लपटों के चपेट में ले ले। केंद्र में भी बीजेपी की सरकार और उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार ऐसे में बीजेपी पुरे घटनाक्रम में मुंह छिपाती नजर आ रही है। कार्यवाई के नाम पर उपद्रवियों को ही सरकार द्वारा मुआवजा दिया जा रहा है जबकि जिन दलितों का घर बार सब जलकर ख़ाक हो गया उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। सहारनपुर में सुलगी जातीय हिंसा की चिंगारी रह रह कर भड़क रही है एक बार फिर जातीय संघर्ष देखने को मिला। जिसमें एक व्यक्ति की जान चाय गयी।

सहारनपुर में मायावती के दौरे के पहले और बाद में दलितों और राजपूतों के बीच हिंसक झड़प हुई जिसमें सात लोग घायल हो गए जिनमें से बाद में एक व्यक्ति की मौत हो गई। एक महीने के अंदर सहारनपुर में यह हिंसा की तीसरी घटना है। पिछले दिनों सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में डॉ अंबेडकर की मूर्ति लगाने को लेकर विवाद हुआ था। दलितों का आरोप है कि राजपूतों ने मूर्ति नहीं लगाने दी। बाद में जब राजपूत महाराणा प्रताप जयंती पर जुलूस निकल रहे थे तो दलितों ने उसका विरोध किया था।

बसपा प्रमुख मायावती के शब्बीरपुर गांव पहुंचने से पहले दोनों पक्षों में एकबार फिर से संघर्ष हुआ जिसमें कुछ घरों में तोड़फोड़ और आगजनी हुई। बाद में मायावती के जाने के बाद कुछ लोगों ने वहां से लौट रहे बसपा समर्थकों की गाड़ी पर हमला कर दिया। गाड़ी में सवार लोगों को मारा और गाड़ी तोड़ दी।

इस वारदात में सात लोग घायल हो गए जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। बाद में इनमें से एक व्यक्ति की मौत हो गई। बसपा के समर्थक अस्पताल के सामने विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। मौके पर जिले के वरिष्ठ अफसर मौजूद हैं। वहां बड़े पैमाने पर फोर्स की तैनाती कर दी गई है. साथ में रैपिड एक्शन फोर्स भी लगा दी गई है. मेरठ से एडीजी आनंद कुमार सहारनपुर रवाना हो गए हैं।

Loading...