छेड़खानी से परेशान सातवीं की छात्रा ने जहर खाकर दी जान, एंटी रोमियो स्कवाड कहां मर गया !

0
0

 

लखनऊ, मीडिया मैनेजमेंट अगर किसी को सीखना है तो वो भाजपा से सीखे किस तरह इवेंट बना कर किसी योजना को लागू किया जाता अहइ और पब्लिसिटी होने के बाद ठन्डे बास्ते में डाल दिया जाता है। ऐसा ही कुछ एंटी रोमियो स्कवाड के साथ भी हुआ सरकार बनने के बाद पब्लिसिटी पाने के लिए बिना किसी तैयारी के एंटी रोमियो स्कवाड का गठन किया गया और जमकर प्रमोट किया गया करोड़ों रूपये मीडिया को खिलाया गया एंटी रोमियो को प्रचारित करने के लिए। सरकार बने 6 महीने भी नहीं हुआ एंटी रोमियो स्कवाड फुस्स हो गया। महिलाओं के खिलाफ अपराधों में बाढ़ आ गई है। बावजूद इसके इवेंट मैनेजमेंट वाली सरकार और भाजपा प्रचार कर रही है कि अब यूपी से अपराध खत्म हो चुका है।

लेकिन महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराध की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। अब स्कूल के अंदर ही छात्राओं को छेड़छाड़ का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी ही एक घटना से छुब्ध हो कर एक सातवीं कक्षा की छात्रा ने आत्महत्या कर ली। मामला बनारस के रोहनिया थाना अंतर्गत कचहरिया स्थित केवीएन पब्लिक स्कूल का है जहां की कक्षा सात की छात्रा ने सीनियर छात्र की छेड़खानी से परेशान होकर शुक्रवार को जहर खा लिया। स्कूल से घर पहुंची छात्रा लगातार उल्टी करने लगी तो परिवारीजन उसे राजातालाब स्थित एक निजी अस्पताल ले गए। हालत बिगड़ने पर डॉक्टरों ने उसे भदवर स्थित निजी अस्पताल रेफर कर दिया जहां उपचार के दौरान देर रात उसकी मौत हो गई।

सूचना पाकर शनिवार को रोहनिया पुलिस ने छात्रा के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना के संबंध में पुलिस को पीड़ित परिवार की तहरीर का इंतजार था। परिवारीजनों का आरोप है कि छेड़खानी के मामले की शिकायत स्कूल प्रबंधन से दो बार की गई थी लेकिन उसे गंभीरता से नहीं लिया गया। रोहनिया थाना के पनिअरा (बाबूराम का पुरा) क्षेत्र निवासी एक किसान की 13 वर्षीय बेटी केवीएन पब्लिक स्कूल में कक्षा सात की छात्रा थी। छात्रा के पिता ने शनिवार को बीएचयू पोस्टमार्टम हाउस में बताया कि उनकी बेटी शुक्रवार की दोपहर स्कूल बस से घर आई तो उल्टी करने लगी।

उसकी हालत बिगड़ती चली गई तो उसे अस्पताल ले जाया गया। मृत्यु से पूर्व छात्रा ने अस्पताल में अपने पिता को बताया कि स्कूल में कक्षा 11 में पढ़ने वाला एक छात्र उससे छेड़खानी करता था। शुक्रवार को भी परेशान किया तो उससे लड़ाई हुई। इसी दौरान आरोपी छात्र ने छात्रा की पिटाई भी की। इसी वजह से उसने जहर खा लिया है।

पिता ने बताया कि इस मामले की शिकायत पूर्व में दो बार स्कूल प्रबंधन से की गई थी लेकिन गंभीरता से ध्यान नहीं दिया गया। दो दिन पहले उनकी बेटी ने फिर छेड़खानी की बात बताई तो उन्होंने साथ स्कूल चलने को कहा था लेकिन तब तक उसने ऐसा आत्मघाती कदम उठा लिया जिसकी उन्होंने कल्पना भी नहीं की थी। उनकी बेटी की हालत स्कूल बस में ही बिगड़ी तो उसे सीधे अस्पताल क्यों नहीं ले जाया गया। छात्रा के पिता ने कहा कि आरोपी छात्र के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो और स्कूल प्रबंधन का भी दोष निर्धारित हो।

इस संबंध में क्षेत्राधिकारी सदर अंकिता सिंह ने बताया कि पुलिस को पीड़ित पक्ष की तहरीर का इंतजार है। आरोपी छात्र के घर पर एक टीम भेजी गई है और स्कूल प्रबंधन से पूछताछ की जा रही है।

Loading...