भाजपा विधायक पर ‘रेप’ का आरोप लगाने वाली युवती के पिता की, जेल के अंदर संदिग्ध हालत में मौत !

0
0

भाजपा विधायक के भाई अतुल सेंगर ने की थी बलात्कार पीड़िता के पिता सुरेंद्र सिंह की गंभीर पिटाई, तथा सत्ता के दबाव में घायल सुरेंद्र सिंह को डलवा दिया था जेल में !

उन्नाव : यूपी की योगी सरकार में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है और योगी की पुलिस भाजपा नेताओं की बंधुआ बनकर काम कर रही है। कल मुख्यमंत्री योगी के आवास के सामने पूरे परिवार संग आत्मदाह की कोशिश करने वाली तथा भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती के पिता की सोमवार सुबह तड़के करीब तीन बजे जेल के अंदर संदिग्ध हालात में मौत हो गई।

भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर के दबाव में पीड़ित के पिता को 4 अप्रैल को आर्म्स एक्ट और मारपीट के फर्जी आरोप में जेल हुई थी। उन्नाव जेल प्रशासन के लीपा-पोती रिपोर्ट के मुताबिक, रविवार देर रात उसके पेट में दर्द उठा था, जिसके बाद उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसकी मौत हो गई। उन्नाव जिला अस्पताल के डॉ अतुल का कहना है कि पीड़ित को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसे पेट में दर्द और उल्टियां हो रही थीं।

हालांकि सूत्रों का कहना है कि उसके शव पर गंभीर चोट के निशान पाए गए हैं। पीड़ित परिवार ने बीजेपी विधायक और उसके भाई अतुल सिंह सेंगर पर हत्या का आरोप लगाया है। हालाँकि सूत्रों के अनुसार पीड़िता के पिता की मौत पूरी तरह से संदिग्ध है।

सीएम आवास के सामने महिला ने परिवार संग की आत्मदाह की कोशिश,BJP विधायक को बताया बलात्कारी !

मालूम हो कि उन्नाव के माखी थानाक्षेत्र की रहने वाली युवती ने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर आरोप लगाया कि जून 2017 में उन्होंने उसे बंधक बनाकर कई बार रेप किया। यहीं नहीं, उन्होंने अपने गुर्गों से भी रेप कराया। पीड़िता ने थाने में आरोपी विधायक के खिलाफ तहरीर दी, तो पुलिस ने कार्रवाई नहीं की और उसे टरका दिया।

इसके बाद कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। इस मामले को लेकर पीड़िता का परिवार कई बार लखनऊ में पुलिस के उच्चाधिकारियों से भी मिला। एक बार मुख्यमंत्री से जनता दरबार में गुहार लगाई, लेकिन जांच की बात कहकर मामले को टाल दिया गया।

पीड़िता के परिवार ने विधायक के खिलाफ पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाते हुए रविवार सुबह मुख्यमंत्री आवास पर आत्मदाह का प्रयास भी किया।

पुलिस ने आत्मदाह के पहले ही पूरे परिवार को पकड़ लिया और थाने लेकर आ गई। जहां उन्नाव पुलिस से संपर्क किया। अधिकारियों को इस संबंध में जानकारी दी। दोपहर में एडीजी लखनऊ पीड़ित परिवार से मिले और मामले की जांच लखनऊ पुलिस से कराने का निर्देश दिया। इसके बाद परिवार को उन्नाव पुलिस के साथ भेज दिया।

योगी का गुंडाराज : भाजपा विधायक के भाई की सरेआम गुंडई, पुलिस के सामने पीड़ित को पीटा !

Loading...