भाजपा नेता ने पूर्व मंत्री सपा नेता ‘पवन पांडेय’ को दी जान से मारने की धमकी ! देखें कौन है BJP नेता

0
204

अयोध्या (फैजाबाद) : उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार के दौरान गुंडाराज की बात करने वाले भाजपा नेताओं के लिए अब सरकार mein आकर इतनी बड़ी चुनौतियाँ सामने आ गयी हैं,जिसके कारण योगी सरकार पूरी तरह से असहज हो चुकी है और प्रदेश में असली मायने में गुंडाराज व्याप्त हो गया है। जहाँ हर रोज हत्या,लूट और बलात्कार की बढ़ती घटनाओं ने पूरे प्रदेश में दहशत का माहौल बना रखा है,जहाँ कभी किसी पूर्व IAS अधिकारी को भाजपा नेता और हिन्दू वाहिनी के लोग घर में घुस कर धमकी देते हैं तो कभी किसी पूर्व मंत्री,विधायक,सांसद और सरकारी कर्मचारियों को। ऐसे ही एक मामले में फैजाबाद जिले के पूर्व राज्यमंत्री तेज नारायण पांडेय “पवन पांडेय” व पूर्व चेयरमैन सहकारी गन्ना विकास समिति सुरेंद्र यादव को गुरुवार की देर रात मोबाइल फोन पर जान से मारने की धमकी मिली है।

पूर्व मंत्री ने शुक्रवार को एसएसपी से मिलकर एफआईआर दर्ज कराने व सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है। इधर, घटना को लेकर सपाईयों में आक्रोश है। सत्ता पक्ष के इशारे पर गुंडागर्दी का आरोप लगाया गया है।

मामले में एसएसपी का कहना है कि एफआईआर दर्ज करा दी गई है। सीओ सदर को मामले की जांच सौंपी गई है। पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय ने बताया कि गुरुवार की देर रात उन्हें व पूर्व चेयरमैन सहकारी गन्ना विकास समिति सुरेंद्र यादव को एक व्यक्ति ने मोबाइल फोन पर गुरुवार रात धमकी दी।

पूर्व मंत्री के मुताबिक, मोबाइल नंबर 9580222333 से उनके मोबाइल पर रात 11:30 से 12 बजे के बीच पांच बार एक व्यक्ति ने फोन करके गन्ना समिति के चुनाव में हस्तक्षेप न करने की हिदायत देते हुए जान से मारने की धमकी दी। पूर्व मंत्री ने बताया कि उसी व्यक्ति ने उसी नंबर से सुरेंद्र यादव के मोबाइल पर 11:08 बजे धमकी मिली। पूर्व मंत्री एवं पूर्व चेयरमैन ने शुक्रवार को एसएसपी से मिलकर तहरीर दी।

गन्ना समिति पर कब्जा करने के लिए दी गयी है धमकी !

पवन पांडेय ने कहा कि गन्ना समिति पर कब्जा करने के लिए सत्ताधारी दल कई दिनों से सक्रिय है, सभापति ने इस्तीफा भी गुरुवार को दे दिया था। इसके बाद जान से मारने की धमकी देकर दहशत फैलाई गई। सबकुछ सत्ताधारी दल के इशारे पर हो रहा है।

इस बाबत एसएसपी सुभाष सिंह बघेल ने बताया कि मामले में रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। सीओ सदर दीपक कुमार को जांच सौंपी गई है। सपा प्रवक्ता ओमप्रकाश ओमी ने धमकी की निंदा करते हुए एसएसपी से पूर्व मंत्री व पूर्व चेयरमैन की सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है।

पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष निकला धमकी देने वाला !

CO सदर दीपक कुमार ने बताया कि पूर्वमंत्री तेज नारायण पांडेय को धमकाने के मामले में मोबाइल करने वाले की पहचान कर ली गई है। उसका नाम आलोक सिंह है, वह साकेत पीजी कॉलेज का छात्रसंघ पूर्व अध्यक्ष है। उसे नोटिस दिया गया है। आलोक ने पुलिस को भरोसा दिलाया है कि जब उसे पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा, तब हाजिर हो जाएगा।

Loading...