योगी का जंगलराज – आजमगढ़ – गैस एजेंसी मालिक भूपेंद्र यादव की गोली मारकर हत्या, लाख रूपये लूटे !

0
3

आजमगढ़, एनकाउंटर स्पेशलिस्ट उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के जंगलराज में अपराधी छुट्टा सांड की तरह घूम रहे है और एनकाउंटर स्पेशलिस्ट बाबा निर्दोषों को फर्जी एनकाउंटर में मौत के घाट उतार रहे हैं। जंगलराज का एक और उदहारण उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में देखने को मिला जब दिन दहाड़े गैस एजेंसी के मालिक भूपेंद्र यादव की अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। दिन दहाड़े हुए इस हत्याकांड से इलाके में हड़कंप मच गया।

जानकारी के मुताबिक आजमगढ़ में रविवार को बाइक सवार तीन बदमाशों ने पूजा गैस एजेंसी के मालिक भूपेंद्र यादव की गोली मारकर हत्या कर दी। जौनपुर जिले के चंदवक थाना क्षेत्र के सतमेसरा गांव निवासी भूपेंद्र यादव (50) की गैस एजेंसी लालगंज बाजार में नहर किनारे है, जबकि उनका गोदाम डेढ़ किमी दूर पश्चिम रेतवा चंद्रभानपुर गांव में है।

रविवार को गोदाम पर मेहनाजपुर थाना क्षेत्र के च्यूटहरा गांव निवासी जोगेंद्र यादव, पवनी गांव निवासी संतोष पांडेय मौजूद थे। शाम चार बजे एक काले रंग की पल्सर बाइक से तीन बदमाश गोदाम पर पहुंचे और मालिक को पूछने लगे। कर्मचारियों के इंकार करने पर एक बदमाश ने तमंचे की बट से जोगेंद्र के सिर पर प्रहार कर दिया व अंदर काउंटर से 97 हजार दो सौ रुपये निकाल लिए। संतोष के विरोध करने पर बदमाशों ने उसे भी पीटा और मोबाइल छीन लिया।

दोनों को कमरे में बंद करने के बाद बदमाश गैस एजेंसी के आफिस में पहुंचे, जहां भूपेंद्र यादव अपने साथी सुनील यादव, देवगांव कोतवाली के सरुपहां गांव निवासी उमा यादव, बृजेश यादव और रमेश यादव के साथ बैठे थे। बदमाशों ने गैस एजेंसी के आफिस में अंदर घुसते ही मालिक के बारे में पूछा और काउंटर से रुपये लूटने का प्रयास किया। इस पर बदमाशों और वहां मौजूद लोगों में हाथापाई होने लगी तभी एक बदमाश ने भूपेंद्र यादव को गोली मार दी जो उनके सीने में लगी। इसके बाद बदमाश हवा में गोली दागते हुए पल्हना बाजार की तरफ भाग निकले।

कोतवाली देवगांव पुलिस के साथ सीओ लालगंज मौके पर पहुंचे और भूपेंद्र को सीएचसी लालगंज में भर्ती कराया जहां हालत गंभीर देख डाक्टर ने उन्हें ट्रामा सेंटर वाराणसी के लिए रेफर कर दिया किंतु रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। एसपी अजय कुमार साहनी ने बताया कि जिस तरह बदमाश पहले गोदाम गए वहां एजेंसी मालिक के बारे में पूछा, उनके न मिलने पर कर्मचारियों को कमरे में बंद कर लूटपाट की। उसके बाद में यहां से एजेंसी के आफिस में जा कर वारदात को अंजाम दिया है। उससे ऐसा लगता है कि एजेंसी मालिक ही उनके निशाने पर थे। पुलिस गहनता से जांच कर रही है। जल्द ही इसका खुलासा कर दिया जाएगा।

 

Loading...