योगी का रामराज्य या रावण राज्य, बेटी के सामने बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष की सरेआम नृशंश हत्या !

0
53
Loading...

प्रतापगढ़ : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है,पूरे प्रदेश में अपराधी बेखौफ होकर बलात्कार,डकैती और हत्या जैसे जघन्य अपराधों को अंजाम दे रहे हैं तो वहीँ सरकार इन घटनाओं पर रोक लगाने की जगह कैमरे पर झाड़ू लगाते नजर आ रही है।

ताजा घटनाक्रम के अनुसार लालगंज कोतवाली क्षेत्र में तहसील बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष धनंजय मिश्र की सोमवार देर शाम नकाबपोश बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर हत्या कर दी। धनंजय मिश्र अपनी बेटी को एग्जाम दिलाकर घर लौट रहे थे। इस नृशंश घटना से गुस्साए परिजन शव को पुलिस से छीनकर घर ले गए। रात 3 बजे हंगामा शांत करवाकर पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा।

जानें कैसे हुई योगीराज के रामराज्य में यह नृशंश हत्या —-

लालगंज कोतवाली के जलेशरगंज के एडवोकेट धनंजय मिश्रा बार एसोसिएशन लालगंज के पूर्व अध्यक्ष थे। उनकी मौत की गवाह बनी बेटी ने रोते हुए फोन पर घटना की डीटेल्स बताईं।
अंशिका ने बताया, “सोमवार शाम 6 बजे पापा बाइक से मुझे लेने रामपुर बावली स्थित रामानंद सरस्वती डिग्री कॉलेज आए थे। वहां से हम घर जा रहे थे तभी मोठिन गांव स्थित धर्मकांटा के पास चार नकाबपोश बाइक से आए। उनमें से एक ने चलती बाइक से ही पापा पर फायर कर दिया।”

– बेटी के मुताबिक सिर में गोली लगने से धनंजय बेसुध हो गए और उनकी बाइक वहीं गिर गई। पीछे बैठी अंशिका उछलकर दूर जा गिरी। फिर बदमाशों ने बाइक रोककर उनके सीने व सिर में करीब से तीन गोलियां उतार दीं।
– बेटी चीखते हुए पिता को बचाने के लिए रहम की भीख मांगती रही, लेकिन बदमाशों को दया नहीं आई। अंशिका ने बताया, “वो पापा की मौत कन्फर्म करने के बाद ही वहां से फरार हुए।”
– घटना की खबर मिलते ही परिजन वहां पहुंचे और खून से लथपथ धनंजय को लेकर अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

परिजनों ने किया पोस्टमॉर्टम पर हंगामा —-

– मृतक एडवोकेट के बड़े भाई विनीत के मुताबिक वो घटना के समय वहीं मौजूद थे। उनकी बाइक कुछ ही कदम की दूरी पर थी। वे चिल्लाए, लेकिन बदमाशों को रोक नहीं सके। उन्होंने 100 नंबर डायल कर पुलिस को सूचना देने की कोशिश की, लेकिन फोन नहीं उठा।
– घटना के काफी देर बाद हॉस्पिटल पहुंची पुलिस तुरंत शव को पोस्टमॉर्टम भेजना चाहती थी। यह देखकर परिजनों ने वहां हंगामा शुरू कर दिया। उन्होंने शव को कब्जे में लिया और पुलिस अफसरों के सामने ही घर ले गए।
– बवाल की आशंका देखते हुए पुलिस भी पीछे-पीछे मृतक के घर पहुंची। वहां समझा-बुझाकर शव को देर रात 3 बजे पोस्टमॉर्टम हाउस लाया गया।

जाने योगी जी की पुलिस क्या कहती है ?

पुलिस प्रभारी स्वामीनाथ ने बताया, “​घटना की सूचना मिलते ही हम ASP वेस्ट नीरज पांडेय और अन्य पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। परिजन डीएम-एसपी को बुलाने और हत्यारों को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। हमने जांच के लिए पुलिस टीम बना दी है। किसी रंजिश का पता नहीं चला है, जांच चल रही है।”

Loading...