मैं कानपुर की बेटी, हमें जिताना आपकी जिम्मेदारी – मीरा कुमार, देखें और क्या कहा !

0
791

लखनऊ, विपक्ष की तरफ से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार ने कहा कि यह देश का दुर्भाग्य है कि यहां जाति व्यवस्था है और इसने कई वर्ग के लोगों का मनोबल तोड़ दिया है। फिर से मनुवादी व्यवस्था थोपने की कोशिश की जा रही है। मीरा कुमार ने शुक्रवार को बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की और अपने लिए समर्थन माँगा। बता दें कि मीरा कुमार को 17 विपक्षी दलों ने मिलकर अपना उम्मीदवार बनाया है।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर के साथ उत्तराखंड से लखनऊ पहुंची मीरा कुमार ने अपनी उम्मीदवारी को विचारधारा की लड़ाई बताया। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि हम जातिविहीन समाज बनाएं। यह बहुभाषी देश है जिसका एक सुर में रहना जरूरी है। सर्व धर्म समभाव की भावना सबको एक सुर में बांधे हुए है।

इस दौरान उन्होंने केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में तीन साल और इस प्रदेश में तीन महीने से साफ है कि इस विचारधारा को नष्ट किया जा रहा है। सांप्रदायिकता को बढ़ावा दिया जा रहा है। विपक्षी दलों ने इसीलिए एकजुट होकर विचारधारा की लड़ाई लड़ने का फैसला किया और मुझे उम्मीदवार बनाया।

उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्य ही है कि हम 21वीं सदी में जी रहे हैं लेकिन, कोंविंद क्योंकि दलित हैं और इसीलिए उनकी पहचान की जाती है। उन्होंने कहा कि बसपा, सपा, रालोद और कांग्रेस के सभी विधायकों और सांसदों ने उन्हें समर्थन दिया है। मुलायम सिंह यादव से मिलने के बारे में पूंछने पर उन्होंने कहा कि अभी नहीं।

मीरा कुमार ने कहा कि उत्तर प्रदेश से उनका गहरा जुड़ाव रहा है। यहीं से उन्होंने सार्वजनिक जीवन की शुरुआत की है। पहला लोकसभा चुनाव 1985 में उन्होंने बिजनौर से लड़ा था। उन्होंने बताया कि कानपुर शहर में उनकी ननिहाल रही है। इसलिए यहां आकर उन्हें बहुत खुशी होती है।

Loading...