IT रेड पर बोले लालू- दलित और पिछड़ों को शंकराचार्या बनाने की मेरी बात हजम नही हुयी BJP और मोदी को !

0
61

दलित और पिछड़ों को शंकराचार्या बनाने की मेरी बात हजम नही हुयी BJP और मोदी को ,BJP को मुबारक हों नए साथी,लालू झुकने और डरने वाला नहीं हूँ,आखिरी सांस तक फासीवाद से लड़ूंगा

Loading...

पटना : बिहार में भाजपा को मजबूत करने के लिये अब मोदी के निशाने पर हैं राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव,जहाँ चारा घोटाले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद लालू प्रसाद यादव की मुश्किलों में इजाफा हो सकता है। वहीं मंगलवार को इनकम टैक्स विभाग ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनके बेटों के दिल्ली-एनसीआर में मौजूद 22 ठिकानों पर छापेमारी की है। मोदी सरकार के आईटी विभाग को लालू की 1000 करोड़ की बेनामी संपत्ति होने का शक है। हालांकि लालू ने अपने एक बयान में कहा कि दलितों और पिछड़ों को मठ़ों और मंदिरों में शंकराचार्या बनाने की मेरी बात लगता है BJP और मोदी को हजम नही हुयी ।

लालू प्रसाद यादव ने बेनामी संपत्ति मामले में आयकर विभाग की छापेमारी पर अपने एक ट्वीट में कहा कि भारतीय जनता पार्टी को नए गठबंधन साथी मुबारक हों। लालू झुकने और डरने वाला नहीं है। जब तक आखिरी सांस है मैं फासीवादियों के खिलाफ लड़ता रहूंगा। हालाँकि ट्वीट के बाद में लालू ने कहा कि नीतिश से गठबंधन अटूट है,भाजपा वाले ज्यादा लार ना टपकाँए । बीजेपी के फांसीवादी और घमंडी नेता सावधान हो जाओ- लालू को धमकाने से पहले आईने में देखो, बिहार के भीतर लाखों लालू मौजूद हैं।

लालू ने बीजेपी नेताओं को धमकाते हुए कहा कि ‘अरे पढ़े-लिखे अनपढों,ये तो बताओ कौन से 22 ठिकानों पर छापेमारी हुई। BJP समर्थित मीडिया और उसके सहयोगी घटकों (सरकारी तोतों) से लालू नही डरता। BJP में हिम्मत नही कि लालू की आवाज को दबा सके,लालू की आवाज दबाएंगे तो देशभर मे करोड़ों लालू खड़े हो जाएंगे । मैं गीदड़ भभकी से डरने वाला नही हूं।’

मंगलवार सुबह 8:30 बजे से शुरू हुई इस छापेमारी के बाद बेनामी संपत्ति को लेकर लालू पर शिकंजा कसने की कोशिश तेज हुई। इन ठिकानों में उनकी पार्टी के ही राज्यसभा सांसद प्रेमचंद गुप्ता के घर पर भी छापेमारी हुई है। इसके अलावा उनकी बेटी मीसा और दामाद के ठिकानों पर भी छापेमारी की गई है।

दरअसल, लालू प्रसाद यादव के खिलाफ बिहार भाजपा के अध्यक्ष सुशील कुमार मोदी ने मोर्चा खोला हुआ है। सुशील मोदी ने लालू प्रसाद यादव पर आरोप लगाया था कि वे बेनामी करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं और उन्होंने चुनाव आयोग को दिए गए हलफनामे में अपने गुप्त व्यवसायों का उल्लेख नहीं किया था। सुशील कुमार मोदी ने इस मामले में केंद्रीय एजेंसियों से हस्तक्षेप करने की मांग की थी।
आईटी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि दर्जनों ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। उन्होंने बताया कि जमीन सौदों में लालू और उनके परिवार से जुड़े लोगों और बिजनेसमैन की छानबीन की जा रही है। इस पूरी प्रक्रिया में विभाग के 100 अधिकारियों की टीम शामिल है।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाया था कि रेल मंत्री रहले हुए लालू ने अपने पद का गलत इस्तेमाल किया और कई लोगों को इन डील्स के जरिए आर्थिक फायदा पहुंचाया। इसके अलावा लालू ने नीतीश कुमार को भी खुद के खिलाफ कार्रवाई ने करने के लिए धमकाया था। बता दें कि बिहार में लालू-नितीश के गठबंधन की सरकार है, जिसमें लालू के बेटे तेजस्वी और तेज प्रताप मंत्री है।

प्रसाद ने कहा, “बिहार में कई संदिग्ध जमीन सौदे किए गए। लालू की राजनीति लूट की राजनीति बन गई है। कर्ज चुकाने के लिए करोड़ों की जमीन का सौदा किया गया।” साथ ही उन्होंने कहा कि लालू और उनके परिजनों की कंपनियां सिर्फ जमीन सौदों के लिए बनाई गईं। इनमें न कोई कर्मचारी है, न कोई काम है और न ही कोई टर्नओवर है। बिहार के सबसे बड़े शॉपिंग मॉल की जमीन भी इस तरह की संदिग्ध सौदेबाजी के घेरे में है। पटना का यह मॉल 7.5 लाख स्क्वेयर फीट में बना है।