योगी सरकार में घोर जातिवाद – ठाकुर और ब्राह्मण अधिकारियों को बांटे मलाईदार पद

0
321
Loading...

लखनऊ, यूपी चुनाव के दौरान देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने चुनावी रैलियों के दौरान मंच से अखिलेश सरकार पर जाती विशेष (यादव) के लोगो को बढ़ावा देने का आरोप लगाया था हालांकि देश के प्रधानमंत्री को जातिवाद की बात करना शोभा नहीं देता। प्रधानमंत्री क्व अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी यूपी में यादव जाती को लेकर बयान दिया था। प्रधानमंत्री द्वारा यादव जाती को टारगेट करने की वजह से ही यादव जाती को ओबीसी से अलग करके देखा जाने लगा है और प्रदेश के अंदर यादवों के प्रति नफरत का भाव पैदा कर दिया गया है। यही नही मीडिया ने भी खूब प्रचारित किया कि यूपी में यादववाद चल रहा है। मीडिया ने यहां तक कहा कि गैर यादव ओबीसी यानी ओबीसी से यादव समाज को अलग करके दिखाया गया। जिसका चुनाव में बीजेपी को पूरा लाभ मिला और पिछड़े यादवों से नफरत करने लगे।

सबका साथ और सबका विकास करने की बात करके यूपी की सत्ता में काबिज होने वाली बीजेपी की पोल अब खुल गयी है बीजेपी की सरकार में घोर जातिवाद देखने को मिल रहा है। बीजेपी की योगी सरकार में प्रदेश में प्रशासनिक अफसरों की तैनाती में सिर्फ और सिर्फ ठाकुरों और ब्राह्मणों का बोलबाला दिखाई दे रहा है। जबकि दलित अधिकारी सन्नाटे में बैठे दिखाई दे रहे हैं।

पिछड़ी जाति के अफसरों में निराशा

सूत्रों के मुताबिक उच्च पदों पर की जाने वाली प्रशासनिक नियुक्तियों में जमकर जातिवाद चल रहा है। प्रदेश में मलाईदार जगहों पर पोस्टिंग के लिए ब्राह्मण और ठाकुर अधिकारियों में होड़ मची हुई है। वहीं पिछड़ी जातियों से ताल्लुक रखने वाले अधिकारी सत्ता के इस बंदरबांट को दूर से ही देख रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी यूपी सरकार में प्रशासनिक पदो पर ब्राह्मणों और ठाकुर अधिकारियों में मची होड़ की जमकर चर्चा हो रही है।

यही नहीं बीते विधानसभा चुनाव में भाजपा को भरपूर समर्थन देने वाली कुर्मी, कोयरी, तेली, मौर्या, लोध,निषाद,राजभर, कुम्हार जैसी पिछड़ी जातियों से ताल्लुक रखने वाले अधिकारियों में गहरी निराशा है. उन्हें उम्मीद थी कि बीजेपी सरकार में उन्हें उनकी हिस्सेदारी और महत्वपूर्ण पदों पर तैनाती जरूर मिलेगी पर यूपी प्रशासन में ब्राह्मणों और अब सीएम योगी के प्रभाव के चलते ठाकुरों के दबदबे के कारण उनको निराशा ही हाथ लगी है।

मौर्या की जाति का एक भी अधिकारी डीएम या एसपी नहीं

गौरतलब है कि डिप्टी सीएम केशव मौर्या की जाति का एक भी अधिकारी डीएम या एसपी नहीं है। सचिवालय में एक अधिकारी के रूप में सिर्फ सुशीत कुमार मौर्या ही है जो कि यूपीएपीसी ब्रांच में स्पेशल सेक्रेटरी हैं। मौर्या की तरह अन्य पिछड़ी जातियां भी लगभग नदारद हैं।

मालूम हो कि अखिलेश सरकार के दौरान यादव अधिकारियों की महत्वपूर्ण पदों पर तैनाती की काफी चर्चा होती थी। मीडिया का एक बड़ा धड़ा अखिलेश सरकार पर जब तब जातिवादी होने का आरोप लगा देता था। पर आज जब यूपी में मलाईदार पदों पर पोस्टिंग को लेकर ब्राह्मण और ठाकुर अधिकारियों में होड़ मची है तब मीडिया में लगभग खामोशी है या कहें कि मीडिया में बैठे लोग इस खेल को खामोशी के साथ देख रहे हैं।

जानिए कितने ठाकुर और ब्राह्मण अफसरों को योगी सरकार ने मलाईदार पदों पर दी है तैनाती —

  • सुलखान सिंह – यूपी डीजीपी
  • अलोक कुमार सिंह – कमिश्नर चित्रकूट!
  • राजीव सिंह रौतेला – डीएम गोरखपुर!
  • राकेश सिंह – डीएम कानपुर देहात!
  • अमित किशोर सिंह – डीएम एटा!
  • नरेंद्र कुमार सिंह – डीएम शाहजहाँपुर
  • अरविंद कुमार सिंह – डीएम बस्ती
  • शरद सिंह – डीएम प्रतापगढ़!
  • इंद्रा विक्रम सिंह – डीएम शामली!
  • नवनीत सिंह –  डीएम अमरोहा!
  • नागेन्द्र प्रताप सिंह –डीएम सहारनपुर!
  • बृजेश नरायन सिंह-डीएम गौतमबुद्ध नगर!
  • राकेश सिंह-डीएम मुरादाबाद!
  • सुरेन्द्र सिंह- डीएम कानपुर नगर!
  • घनश्याम सिंह एडीएम नोएडा!
  • हरी नरायन सिंह- SSP गाजियाबाद!
  • गौरव सिंह- SP रयबरेली!
  • मृगेंद्र सिंह- SP सीतापुर!
  • कवीन्द्र प्रताप सिंह- SP फ़तेहपुर!
  • दिनेश प्रताप सिंह –SP कानपुर!
  • राम प्रताप सिंह- SP सोनभद्र!
  • अभिषेक सिंह- SP बलरामपुर!

ब्राह्मण जाति के अधिकारियों की लिस्ट….

  • चंचल कुमार तिवारी – एडीशनल चीफ सेक्रेटरी, पंचायती राज विभाग
  • सदाकांत मिश्रा – एडीशनल चीफ सेक्रेटरी, हाउसिंग एंड अर्बन प्लानिंग, पीडब्लूडी
  • मुकुल सिंघल – प्रिंसिपल सेक्रेटरी, प्लानिंग, हेंडलूम एंड टेक्सटाइल
  • शंभूनाथ शुक्ला – एडीशनल सेक्रेटरी , एडमिनिस्ट्रेटिब रिफोर्मस, पब्लिक सर्विस मैनेजमेंट
  • अनूप चंद पांडे – एडीशनल चीफ सेक्रेटरी फाइनेंस,
  • राजेन्द्र तिवारी – एडीशनल चीफ सेक्रेटरी लेवर एंड इम्पलायमेंट
  • दीपक त्रिवेदी – एडीशनल चीफ सेक्रेटरी , रूरल डेवलपमेंट
  • अवनीश कुमार अवस्थी – प्रिंसिपल सेक्रेटरी, धर्मार्थ कार्य, सीईओ, यूपीआईडीए
  • देवाशीष पांडा , प्रिंसिपल सेक्रेटरी, गृह विभाग
  • राजन शुक्ला – प्रिंसिपल सेक्रेटरी, सिविल डिफेंस
  • रजनीश दुबे, प्रिंसिपल सेक्रेटरी, लघु, छोटे, मध्यम उद्योग एवं निर्यात संरक्षण विभाग
  • जोतिका पतनकर – प्रिंसिपल सेक्रेटरी, गवर्नर ,यूपी
  • आराधना शुक्ला – प्रिंसिपल सेक्रेटरी, परिवहन विभाग
  • मोनिका गर्ग – प्रिंसिपल सेक्रेटरी, लघु सिचाई
  • पार्थासार्थी सेन शर्मा – सेक्रेटरी, एन ई डी ए विभाग
  • मृत्युंजय नारायण – सेक्रेटरी, मुख्मंत्री, सिविल एविएशन
  • नीना शर्मा – सेक्रेटरी , महिला कल्याण विभाग
  • धनलक्ष्मी के. – सेक्रेटरी , वित्त विभाग
  • सुधीर कुमार दीक्षित – सेक्रेटरी, मेडिकल एजूकेशन
  • मनोज मिश्रा , सेक्रेटरी, नागरिक सुरक्षा एवं पेंशन विभाग
  • शिव श्याम मिश्रा – स्पेशल सेक्रेटरी, वित्त विभाग
  • सी.पी. त्रिपाठी – स्पेशल सेक्रेटरी, सिंचाई एंव जल संसाधन विभाग
  • हरिकांत त्रिपाठी – स्पेशल सेक्रेटरी, हाउसिंग एंड अर्बन प्लानिंग
  • जय प्रकाश सागर – स्पेशल सेक्रेटरी, वित्त
  • जय प्रकाश त्रिवेदी – स्पेशल सेक्रेटरी, यूपीएपीसी ब्रांच
  • संध्या तिवारी – स्पेशल सेक्रेटरी, सेकेंडरी एजूकेशन
  • प्रीति शुक्ला – स्पेशल सेक्रेटरी, पीडब्लूडी
  • योगेश कुमार शुक्ला – एडीशनल सेक्रेटरी, यूपी इस्टेट विभाग
  • राजीव शर्मा – स्पेशल सेक्रेटरी, लेबर विभाग
  • श्याम सुंदर शर्मा – स्पेशल सेक्रेटरी, फूड एंड सिविल सप्लाई
  • बाल कृष्ण त्रिपाठी – एडीशनल कमिश्नर, फूड एंड सिविल सप्लाई
  • सर्वज्ञ राम मिश्रा – स्पेशल सेक्रेटरी , टूरिज्म विभाग
  • ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी – स्पेशल सेक्रेटरी, यूपीएपीसी
  • वेदपति मिश्रा – स्पेशल सेक्रेटरी, बेसिक शिक्षा
  • रमाकांत पांडे – स्पेशल सेक्रेटरी, शहरी विकास
  • मन मोहन चतुर्वेदी – स्पेशल सेक्रेटरी, वोकेशनल शिक्षा
  • शिवाकांत द्विवेदी – स्पेशल सेक्रेटरी, तकनीकी शिक्षा विभाग
  • सुजीत पांडे – आईजी आगरा जोन
  • महेश कुमार मिश्रा – डीआईजी, आगरा
  • दिनेश चंद्र दुवे , एस एस पी , आगरा
  • राजेश पांडे, एस एस पी , अलीगढ़
  • वीरेन्द्र कुमार मिश्रा एसपी कोशाम्बी
  • ज्ञानेश्वर तिवारी – डीआईजी, चित्रकूट धाम
  • श्रीपति मिश्रा – एसपी बांदा
  • अशोक कुमार त्रिपाठी – एसपी हमीरपुर
  • संतोष कुमार मिश्रा – एसपी, अमरोहा
  • मनोज तिवारी – एस एस पी, मुरादाबाद
  • संकल्प शर्मा – एसपी, बस्ती
  • राजेन्द्र पांडे, एस एस पी, गोरखपुर
  • विपिन मिश्रा – एसपी , हरदोई
  • नेहा पांडे – एसपी , उन्नाव
  • हेमंत कुटियाल – एसपी, हापुड़
  • सुभाष चंद्र दुबे – एस एस पी , सहारनपुर
  • सुरेश कुलकर्णी – एसपी ,आजमगढ़
  • आशीष तिवारी – एसपी, मिर्जापुर
  • दीपिका तिवारी – एसपी , चंदौली
  • सोमेन वर्मन – एसपी , गाजीपुर
  • शैलेष पांडे – एसपी, जौनपुर
  • नितिन तिवारी – एसपी, वाराणसी

ये तो सिर्फ चंंद नाम हैं , लिस्ट इससे कहीं लम्बी है. जिलाधिकारियों की सूची में भी ब्राह्मणों और ठाकुरों का ही दबदबा है। इस लिस्ट को देखकर ऐसा लगता है कि बीजेपी पिछड़ी जातियों से वोट लेना तो जानती है पर उन्हें भागीदारी देना नहीं जानती।

Loading...