बहुत जल्द दो फाड़ होगी नीतीश कुमार की जेडीयू, सरकार भी गिर सकती है, देखें क्या है वजह !

0
140
Loading...

नई दिल्ली, बिहार की राजनीति में जारी हुआ घमासान अभी शांत नहीं हुआ एक तरफ शरद यादव बिहार के 7 जिलों में ‘साझा विरासत बचाओ सम्मेलन’ यात्रा कर रहे हैं तो दूसरी तरफ नीतीश कुमार एक एक कर के शरद यादव के सहयोगियों पर कार्यवाही कर रहे हैं। पहले 8 अगस्त को शरद यादव के करीबी और गुजरात के प्रभारी एवं पार्टी महासचिव अरुण श्रीवास्तव को बर्खास्त किया।

उसके दो दिन बाद 11 अगस्त को नीतीश के बीजेपी के साथ सरकार बनाने का सबसे पहले विरोध करने वाले राज्यसभा सांसद अली अनवर को पार्टी से बर्खास्त किया अब नीतीश कुमार ने पार्टी के संस्थापक शरद यादव पर कार्यवाही करते हुए उन्हें राज्यसभा में पार्टी नेता पद से हटा दिया है। अब शरद यादव की जगह राज्यसभा में आरसीपी सिंह को नेता पार्टी बनाया गया है।

अगला नंबर केरल से राज्यसभा सदस्य बीरेंद्र कुमार का हो सकता है। अपने करीबी नेताओं पर कार्यवाई किये जाने से शरद यादव काफी नाराज नजर आ रहे हैं। एक दो डॉन में शरद यादव की तरफ से कोई बड़ा फैसला लिया जा सकता है। या तो शरद यादव दूसरी पार्टी बनाएंगे और अपने सभी सहयोगियों को जेडीयू से अलग कर अपने साथ जोड़ेंगे जिनमें करीब 18 विधायक भी शामिल हैं।

अगर शरद यादव ऐसा कदम उठाते हैं तो बीजेपी और जेडीयू सरकार अल्पमत में आ जाएगी और गिर जाएगी। शरद यादव की तरफ से 17 अगस्त को दिल्ली में एनेक्सी में एक सम्मलेन बुलाया गया है उम्मीद लगाईं जा रही है कि शरद यादव इस सम्मलेन में कोई बड़ा ऐलान कर सकते हैं।

बता दें कि पिछले साल नीतीश कुमार ने शरद यादव को पार्टी के अध्यक्ष पद से धोखे से हटवा दिया और पार्टी पर कब्जा कर लिया। जेपी आंदोलन में शारद यादव और लालू यादव के पीछे खड़े होने वाले नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ हाथ मिलाकर शारद यादव के साथ विश्वासघात किया है। पार्टी का अध्यक्ष पद हाथ जाने से भी शरद यादव नाराज चल रहे थे जिसके चलते वो पार्टी लाइन से अलग हटकर अपने बयान दे रहे थे।

Loading...