कैराना सांसद तबस्सुम हसन ने समाज बांटने और जहर फैलाने वाले, भाजपा समर्थकों वा IT सेल पर की FIR !

0
7

 

कैराना : यूपी के कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा में हुए चुनावों में भाजपा को करारी हार हाथ लगी है, वहीँ कैराना से सपा समर्थित रालोद प्रत्याशी तबस्सुम हसन तथा नूरपुर विधानसभा से सपा प्रत्याशी नईमुल हसन ने जीत दर्ज करते हुए सामाजिक सौहार्द की एक मिसाल पेश की है। कैराना में जिन गांवों में जाट-मुस्लिम दंगे हुए थे, उन गांवों में भी रालोद प्रत्याशी को जाट-मुस्लिम दोनों समाज का बराबर वोट मिला है। वहीँ वोटिंग वाले दिन भी इस सामाजिक सौहार्द की मिसाल देखने को मिली थी, जब जाट समाज के लोगों ने कड़ी धूप को देखते हुए मुस्लिम रोजेदारों के लिए अपनी लाइन तोड़कर उन्हें बूथ पर लगी लम्बी लाईनों में सबसे आगे लगा दिया था, ताकि वह लोग ज्यादा देर तक धूप में खड़े ना रहे और जल्दी से अपना वोट दाल लें।

बता दें कि कैराना-नूरपुर के नतीजों के बाद से, समाज को बांटने और नफरत फ़ैलाने का काम करने वाले IT सेल के लोगों ने, कैराना की नवनियुक्त सांसद तबस्सुम हसन के नाम और फोटो के साथ सोशल मीडिया में जहर भरे झूठ का प्रचार शुरू कर दिया था। सांसद तबस्सुम हसन के नाम और चेहरे के साथ जो फोटो सोशल मीडिया के ट्वीटर,फेसबुक और वाटस उप पर बड़ी तेजी से वायरल हो रही थी, उसमे तबस्सुम हसन के नाम से लिखा था “अल्लाह जीत गया, राम हार गया”। इस फोटो को एक दल विशेष के लोग अपने IT सेल के माध्यम से वायरल कर रहे थे। वहीँ जब ये बात कैराना सांसद तबस्सून हसन को पता चली तो उन्होंने तुरंत इस जहर भरे झूठ की निंदा करते हुए कहा कि मैं सभी धर्मों का सम्मान करती हूँ और मुझे जिताने के लिए सभी धर्मों के लोगों ने हमे अपना वोट दिया है। इसके तत्काल बाद सांसद तबस्सुम अपने सहयोगियों के साथ पुलिस अधीक्षक शामली के पास गयीं और लिखित में इस पूरे प्रकरण का विवरण बताते हुए, तथाकथित आरोपियों पर FIR की तथा आरोपियों पर सख्त कार्यवाही करने की मांग की। पुलिस ने दोषियों के खिलाफ जल्द कार्यवाही होने की बात कही है।

No automatic alt text available.

Loading...