केजीएमयू में दूसरे दिन भी रेजीडेंट डॉक्टर हड़ताल पर, 5 मरीजों की मौत, 4000 को नहीं मिल सका इलाज

केजीएमयू में दूसरे दिन भी रेजीडेंट डॉक्टर हड़ताल पर, 5 मरीजों की मौत, 4000 को नहीं मिल सका इलाज
loading...

लखनऊ। केजीएमयू में लगातार दूसरे दिन भी रेजीडेंट डॉक्टर हड़ताल पर रहे,जिससे पिछले दो दिनों में 5 मरीजों की मौत हो चुकी है।
केजीएमयू के ट्रामा सेंटर के गेट पर सीनियर रेजीडेंट डॉक्टर बड़ी संख्या में एकत्र होकर मंगलवार को भी धरना देते नजर आए। वहीं, उनके सामने इलाज के अभाव में तीमारदार अपने मरीजों को निजी अस्पतालों में ले जाने के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था कर रहे थे। ऐसे में हड़ताल के दूसरे दिन भी केजीएमयू की चिकित्सा सेवाएं ठप रहीं।
आज भी सीनियर रेजीडेंट डॉक्टरों ने सुबह से ही ट्रामा के दूसरे गेट पर वी वाण्ट जस्टिस के नारे लगते हुए , 211/200 यह कैसा न्याय जैसी तख्तियां लिये जमे दिखे। हालांकि सोमवार को पांच मरीजों की मौत के बाद मंगलवार को ट्रामा के गेट पर जड़ा ताला खोल दिया गया, लेकिन इन चिकित्साकों ने गेट पर दिनभर खड़े रहकर अपना प्रदर्शन जारी रखा।

सीनियर रेजीडेंटों डॉक्टरों ने मंगलवार को अपना गुस्सा मीडिया पर भी निकाला। उनके खिलाफ खबर छपने पर नाराज सीनियर रेजीडेंटों ने दूसरे दिन ट्रामा के बाहर पहुंचे पत्रकारों व फोटोग्राफरों के साथ दुव्र्यवहार किया। साथ ही उन पर हमला करने की धमकी भी दी। एक सीनियर रेजीडेंट ने तब वहां आकर पत्रकारों से कहा कि आप लोग यहां से चले जाएं वरना हम जूनियर रेजीडेंटों को नहीं रोक पाएंगें। इसके साथ ही मीडिया को सामने देखते ही सीनियर रेजीडेंटों ने मुंह घुमा लिया और आपस में चर्चा करते रहे कि आज कोई हंसेगा नहीं वरना फिर से मीडिया वाले हमारी हंसती हुई फोटो छाप देंगे।

सीएमओ डॉ. एसएनएस यादव ने राजधानी के सभी सरकारी अस्पतालों में अलर्ट जारी कर दिया है। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि सीनियर डॉक्टरों की हड़ताल के चलते यदि ट्रामा से कोई मरीज लौटाया जाए और वह अन्य सरकारी अस्पतालों में पहुंचे तो उसे पूरा इलाज दिया जाए साथ ही भर्ती भी किया जाए। ताकि किसी मरीज को इलाज के अभाव में अपनी जान न गंवानी पड़े।

loading...

loading...