BJP को लगा बड़ा झटका – आडवाणी, जोशी और उमा जाएंगे जेल, PM मोदी ने बुलाई मंत्रियों की बैठक

0
68

लखनऊ, 1992 में ढहाई गयी बाबरी मस्जिद के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को BJP और VHP के 13 नेताओं के खिलाफ आपराधिक मुकदमा चलाने का आदेश दिया है। इन नेताओं में बीजेपी के संस्थापक सदस्य लाल कृष्णा आडवाणी का नाम मुख्य है आडवाणी देश के उप प्रधानमंत्री भी रह चुके हैं।

राजनितिक रुप से संवेदनशील बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में लालकृष्ण आडवाणी के अलावा भाजपा के दिग्गज नेताओं मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती और अन्य वीवीआईपी पर जिन आरोपों में सुनवाई होनी है उनमें दो से पांच साल तक के कारावास की सजा का प्रावधान है। उच्चतम न्यायालय ने आपराधिक साजिश के अपराध को बहाल किया है यह आरोप इस मामले में उन पर लगे आरोपों में वास्तविक रुप से शामिल था।

उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता के अपराधों के तहत सुनवाई होगी जिनमें धर्म आदि के आधार पर अलग अलग समूहों के बीच कथित रुप से वैमनस्य बढाना, राष्ट्रीय एकता के लिए नुकसानदेह बयान, टिप्पणियां करना और सार्वजनिक नुकसान वाले बयान देना शामिल है। इन अपराधों के लिए भारतीय दंड संहिता में अधिकतम पांच साल के कारावास की सजा का प्रावधान है।

धर्म का अपमान करने की मंशा से किसी धार्मिक स्थल को नुकसान पहुंचाने के आरोप में अधिकतम दो साल की सजा जबकि धर्म या धार्मिक विश्वास का अपमान करके किसी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंचाने की मंशा से द्वेषपूर्ण कृत्य में अधिकतम तीन साल के कारावास की सजा का प्रावधान है।

बाबरी मस्जिद विध्वंस कांड में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी से सुपरम कोर्ट के आदेश पर मुलाकात कर चर्चा की दोनों नेताओं की मुलाकात करीब 40 मिनट तक चली।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश को दोनों नेताओं के लिए बड़े झटके के तौर पर देखा जा रहा है। आडवाणी और जोशी का नाम राष्ट्रपति एवं उप-राष्ट्रपति पद के लिए चर्चा में था। बीजेपी के इन बड़े नेताओं पर आपराधिक मुकदमा चलने से बीजेपी की साख पर बट्टा लगने की भी संभावना है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर चर्चा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने आवास पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी और एम वेंकैया नायडू बुलाया।

Loading...