मौत का दूसरा नाम बनी प्रभु की रेल – महाकौशल एक्सप्रेस के 8 डिब्बे पटरी से उतरे, 22 यात्री हुए घायल

0
52
Loading...

लखनऊ, महोबा में बुधवार देर रात जबलपुर-महाकौशल एक्सप्रेस (12189) महोबा के नजदीक दुर्घटनाग्रस्त हो गई है। इस हादसे दुर्घटना में ट्रेन की 8 बोगियां पटरी से उतर गई हैं, जिससे कम से कम 22 लोग घायल हो गए। लगातार हो रहे रेल हादसों के चलते लोग रेल को मौत का दूसरा नाम कहने लग गए हैं। नवंबर से अब तक करीब 10 से ज्यादा छोटे बड़े रेल हादसे हो चुके हैं। जिसमें सैकड़ों लोगों की जाने जा चुकी है। बावजूद इसके रेल मंत्रालय कानों में तेल डाल के बैठा हुआ है। लगातार हो रहे रेल हादसे सरकार की कमजोरी दर्शाता है।

आपको बता दें, यह रेल हादसा महोबा-कुलपहाड़ रेलवे स्टेशन के बीच रात दो बजे के लगभग हुआ दुर्घटनाग्रस्त ट्रेन जबलपुर से निजामुद्दीन जा रही थी। हालांकि हादसे के वक्त ट्रेन की रफ्तार काफी कम थी, इस वजह से किसी को गंभीर चोटें नहीं आई हैं।

जानकारी के मुताबिक यह दुर्घटना महोबा और कुलपहाड़ के बीच गेट न. 420 पर 02:07 बजे हुई। ट्रेन के पीछे के 8 डिब्बे पटरी से उतर गए। दुर्घटनाग्रस्त डिब्बों में 4 AC (A-1, B-1, B-2, B-extra), 1 स्लीपर (एस-8), 2 सामान्य यात्री कोच और एक एसएलआर है।

दुर्घटना में कुछ यात्री मामूली रूप से घायल हुए हैं। हालांकि किसी के गंभीर घायल होने या मौत की खबर नहीं है। राहत और बचाव कार्य जारी है। महोबा के डीएम के अलावा डीआरएम झांसी और जीएम एमसी चौहान भी घटनास्थल पहुंच चुके हैं। घायलों के उपचार के लिए झांसी और महोबा से दुर्घटना राहत चिकित्सा वैन भी भेजी गई।

बताया जा रहा है कि महोबा स्टेशन से चलने के 10 किलोमीटर के बाद ही ट्रेन पटरी से उतर गई है। उस समय ट्रेन की रफ्तार बहुत कम थी, वरना बड़ा हादसा हो जाता। पटरी से उतरने के बाद महाकौशल एक्सप्रेस दो भागों में बंट गयी थी। इंजन बाकी बोगियों को लेकर आगे चला गया था और छह डिब्बे जो बेपटरी हो गए थे वो पीछे छूट गए थे।

Loading...