गुजरात चुनाव से पहले BJP की हुई बुरी हार, नांदेड़ में कांग्रेस ने 81 में से 73 सीटें जीती !

0
458

नई दिल्ली, दिसंबर में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। हिमाचल प्रदेश में चुनाव की तारीखों का ऐलान 12 पक्तोबेर को हो चुका है। दो राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए बड़ी खुशखबरी आयी है तो वहीँ भाजपा को निराशा हाथ लगी है। महाराष्ट्र के नांदेड़ में हुए निकाय चुनाव में मिली जीत ने कोंग्रेसी खेमे में नया जोश भरने का काम किया है।

नांदेड़ महानगरपालिका की 81 सीटों पर बुधवार को हुए मतदान में करीब 60 फीसद लोगों ने मतदान किया था। गुरूवार को हुई वोटों की गिनती के बाद जैसे ही नतीजे घोषित किए गए भाजपा के पैरों के तले जमीन खिसक गयी जिसकी वजह सीएम फडणवीस की प्रतिष्ठा दांव पर लगी थी। खुद सीएम के चुनाव प्रचार का जिम्मा संभालने के बावजूद हुई इतनी बुरी हार पर पार्टी का कोई भी नेता मुंह खोलने को तैयार नहीं है।

जब नतीजे आए तो पता चला 81 में से 73 सीटों पर कांग्रेस ने कब्जा कर लिया है। हालांकि अभी 4 सीटों के नतीजे नहीं आए हैं। राज्य निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी ने बताया कि तकनीकी कारणों के कारण अभी भी 4 सीटों के परिणाम घोषित नहीं किए गए हैं, जिनके परिणाम आज घोषित किए जाएंगे।

भाजपा को मात्र 6 सीटें मिली तो शिवसेना को मात्र एक सीट से ही संतोष करना पड़ा। पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, परिणाम इस बात की तस्दीक करते हैं कि भाजपा की वापसी यात्रा शुरू हो चुकी है।

चव्हाण ने कहा कि पेट्रोल के बढ़ते दामों, किसानों की आत्महत्या और दोषपूर्ण कर्ज माफी प्रणाली के कारण उन्हें हो रही समस्याओं को लेकर लोगों में गंभीर असंतोष है। लोग मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के खोखले दावे समझ गए हैं। वहीं महाराष्ट्र के श्रम मंत्री संभाजी पाटिल निलंगेकर ने गुरुवार को दावा किया था कि पार्टी का वोट प्रतिशत वर्ष 2012 के तीन फीसदी के मुकाबले इस बार 19 फीसदी तक बढ़ गया है। वह नांदेड़ में भाजपा के चुनाव प्रभारी भी थे।

बहरहाल, भाजपा की नई सहयोगी और महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष (एमएसपी) नेता नारायण राणे ने भाजपा नेतृत्व को आत्मावलोकन करने की सलाह दी कि नांदेड़ नगर निकाय चुनाव में मुख्यमंत्री द्वारा कई चुनावी रैलियां किए जाने के बावजूद उसका प्रदर्शन इतना खराब क्यों रहा। उन्होंने इस बात को खारिज कर दिया कि इन परिणामों का असर 2019 के लोकसभा और विधानसभा चुनाव पर पड़ेगा। दो दशक पहले नांदेड नगर निकाय बनने के बाद से यहां कांग्रेस का ही शासन रहा है।

साल 2012 में हुए चुनाव में कांग्रेस ने 41 सीटें जीती थीं। शिवसेना ने 14 और एआइएमआइएम ने 11 सीटों पर कब्जा किया था। राकांपा के पास 10 सीटें थीं। नांदेड़ कांग्रेस का मजबूत गढ़ रहा है।

महाराष्ट्र पंचायत चुनाव में BJP ने 3,131 सीट में से जीती 0 सीट, पीएम मोदी ने दे दी जीत की बधाई !

Loading...