देश का रक्षामंत्री कमजोर है, जब मैं रक्षामंत्री था तो पांच सैनिक के बदले पकिस्तान के 100 सैनिकों को मार गिराया था !

0
43
India. Indian Defence Minister Mulayam Singh Yadav (C), who was present at the Indian Armed Forces drill, shakes hands with the Arjun tank driver. PTI-ITAR-TASS. (Photo by TASS via Getty Images)
Loading...

लखनऊ, आगरा में बीजेपी पर प्रतिक्रिया देते हुए मुलायम सिंह ने कहा कि देश के रक्षामंत्री में इतना दम होना चाहिए कि वह दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब दे सके। उन्होंने कहा कि जब वह देश के रक्षामंत्री थे भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर उसे मुंहतोड़ जवाब दिया था। साथ ही भारतीय सेना ने अरुणाचल प्रदेश से लेकर पठानकोट तक क्रॉस बॉर्डर ऑपरेशंस को अंजाम दिया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार सो रही है और देश एक के बाद एक अपने बहादुर जवानों को खो रहा है।

मुलायम सिंह ने कहा, हम रक्षा मंत्री रहे हैं, हमें पता है कैसे जवाब दिया जाता है। एक बार पाकिस्तान ने हमारा एक हेलीकॉप्टर गिरा दिया था और पांच जवान शहीद हुए थे। हमने कहा, हेलीकॉप्टर दुर्घटना में गिरा है लेकिन जवाब इतना कड़ा दिया कि सीमा पर एक बार भी फायरिंग नहीं हुई। पाकिस्तान ने हमारे पांच सैनिक मारे थे, बदले में हमारी फौज ने उनके 100 सैनिकों को मार गिराया। हमने इसका प्रचार नहीं किया।

मुलायम ने कहा, सेना के चीफ ने हमें बताया कि उन्होंने पांच सैनिक मारे थे, हमने नौ मार दिए हैं। हमने कहा, हम पाकिस्तान से आठ गुना बड़े हैं। कम से कम 40 सैनिक मारकर जवाब देना चाहिए। हमने दोबारा फायरिंग कराई। पांच के बदले में पाक के 100 सैनिक मारे। इसका किसी को पता नहीं चलने दिया।

चीन ने हमारी सीमा में एक किमी घुसकर अपना झंडा गाड़ दिया था, हमने चीन की सीमा में चार किमी अंदर जाकर भारतीय झंडे गाड़ दिए। जब वे एक किमी पीछे हटे तभी हमने उनकी सीमा से झंडे उखाड़े। इसके बाद चीन और पाकिस्तान ने आगे बढ़ने की कोशिश नहीं की। संसद में सभी ने हमारी तारीफ की थी।

पूर्व रक्षामंत्री ने कहा कि हमारी सेना बहुत बहादुर है। उन्हें छूट दे दीजिए, तो तीन दिन में सभी आतंकी घटनाएं बंद हो जाएंगी। कोई एटम बम की धमकी देता है, हमारे पास भी एटम बम हैं। लेकिन हम युद्ध नहीं चाहते हैं। युद्ध किसी समस्या का समाधान नहीं है। युद्ध में हारने वाला तो हारता ही है, जीतने वाला भी हारता है।

मुलायम सिंह यादव ने रक्षा मंत्री के तौर पर अपने कार्यकाल के दौरान परमाणु बम फोड़ने की तैयारी पूरी कर ली थी लेकिन इसके पहले की वो इसे अंजाम दे पाते कांग्रेस द्वारा समर्थन खींच लेने से उनकी सरकार गिर गई।

एम वी रमन्ना और सी राममोहन रेड्डी ने अपनी किताब “प्रिजनर आफ द न्यूक्लियर ड्रीम ” में मुलायम सिंह यादव के उस बयान का जिक्र किया है जिसमे उन्होंने कहा था कि यूनाइटेड फ्रंट की सरकार में हमने परमाणु बम के शांतिपूर्ण ढंग से परीक्षण की तैयारी कर ली थी। इस बात की भी तैयारी कर ली गई थी कि इस परीक्षण के बाद जिस किस्म की प्रतिक्रियाएं सामने आएँगी उनका कैसे जवाब दिया जाएगा।

गौरतलब है कि मुलायम सिंह यादव 1 जून 1996 से 19 मार्च 1998 तक देश के रक्षामंत्री थे तब उन्होंने पृथ्वी मिसाइल पर लगाये जा सकने वाले परमाणु मुखास्त्र के निर्माण के लिए अपनी सहमति दे दी थी ,जबकि खुद उनकी सरकार के भीतर लोग इसके लिए तैयार नहीं थे।
इसके अलावा मुलायम ने अयोध्या मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की, हालांकि बाबरी विध्वंस के बाद पुलिस फायरिंग में 16 लोगों की मौत पर दुख जताया ।

मुलायम के आरोपों पर कोई प्रतिक्रिया न देते हुए आगरा में मौजूद उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि बीजेपी उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश में बनाने में व्यस्त है, उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से सम्मान और विनम्रता को अपनाने की अपील की, शर्मा ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं को मिलकर काम करना चाहिए ताकि 2019 के संसदीय चुनावों में पार्टी एक बार फिर जीत हासिल कर सके ।