Featured

बड़ी खबर - अखिलेश की यूथ टीम की हुई वापसी, चारों फ्रंटल के अध्यक्ष बदले गए, देखें इनको मिली ये जिम्मेदारी

लखनऊ, समाजवादी पार्टी की तरफ से बड़ी खबर आ रही है। राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बर्खाश्त किये गए सभी यूथ फ्रंटल की वापसी कराई। सुनील सिंह यादव ‘साजन’ उदयवीर सिंह अरविन्द सिंह गौरव दुबे संजय सिंह लाठर चुनाव से पहले अखिलेश यादव ने इनको दी ये बड़ी जिम्मेदारी ब्रजेश यादव – युवजन सभा का प्रदेश अध्यक्ष मो० एबाद – मुलायम सिंह यूथ ब्रिग्रेड प्रदीप तिवारी – लोहिया वाहिनी दिग्विजय

भाजपा को लगा बड़ा झटका इस बड़े नेता ने थामा ब्रांड अखिलेश का हाथ

नोएडा, भाजपा के यूपी प्रत्याशियों की पहली लिस्ट आने के बाद से भाजपा में विद्रोह हो गया है। कहीं मोदी और दूसरे नेताओं के पोस्टर पे चप्पलें मारी जा रही कालिख पोती जा रही है तो कहीं अमित शाह के पुतले फूंके जा रहे हैं। तो वहीं टिकट वितरण में अनदेखी किये जाने से भाजपा नेता नारकज होकर दूसरे दलों का हाथ थाम रहे हैं। बीजेपी के पूर्व विधायक शिव सिंह

यूपी चुनाव भाजपा के लिए बना टेढ़ी खीर, भाजपा नेताओं ने दी अमित शाह को धमकी दूसरी पार्टी को कराएंगे वोट, पढ़ें ये खबर

नोएडा, भाजपा में हुए टिकट वितरण के बाद से भूचाल आ गया है बाहरी लोगों को टिकट देने में प्राथमिकता दिए जाने से स्थानीय भाजपा नेताओं में आक्रोश व्याप्त है। आक्रोश का आलम ये है कि स्थानीय कार्यकर्ताओं ने शीर्ष नेतृत्व को धमकी तक दे डाली है अगर टिकट नहीं बदले गए तो वो दूसरी पार्टी को वोट ट्रांसफर कर देंगे। गौतमबुद्धनगर में भाजपा नेता को पार्टी द्वारा टिकट न

अमर सिंह चाहते हैं हारे सपा नेता, लंदन से भाजपा नेताओं को कर रहे हैं फोन

नोएडा, समाजवादी पार्टी में हुए घमासान के सूत्रधार माने जा रहे अमर सिंह फिलहाल लंदन में हैं लेकिन उनका मन यही यूपी में रखा हुआ है। भाजपा से टिकट पाये नेताओं को फोन करके बधाई दे रहे हैं। समाजवादी पार्टी के एक बड़े नेता के खिलाफ भाजपा का टिकट पाने वाले नेता को फोन करके अमर सिंह ने उन्हें बधाई दी। कुछ देर तक फोन पर उनसे बात की। उम्मीद

देखें तस्वीरें - भाजपा सांसद की गुंडागर्दी, ड्यूटी कर रहे सिपाही को मारे थप्पड़, टीआई को भी थामकाया

नोएडा, भाजपा सांसदों पर सत्ता का रंग कुछ इस तरह चढ़ा हुआ है कि उनको ना तो आम जनता का दुख दर्द दिखता है और ना ही जनता की सुरक्षा में लगे सिपाही का कर्तव्य दिखता है। आम जनता के सामने खाकी वर्दी को सत्ता के घमंड में चूर भाजपा सांसद ने तार तार किया। एक कार्यक्रम के दौरान पुलिसकर्मी भाजपा के सांसद को नहीं पहचान पाया और उसने उन्हें

अखिलेश, राहुल और जयंत के संभावित गठबंधन से बैकपुट पर आयी भाजपा, नेताओं में बढ़ी बेचैनी

नोएडा, उत्तर प्रदेश चुनाव से ठीक पहले गठबंधन की तरफ बढ़ रहे अखिलेश यादव, राहुल गांधी और जयंत चौधरी की तिकड़ी से भाजपा बैकपुट पर आ गयी है। 2012 के विधानसभा चुनावों में तीनों के वोट प्रतिशत की बात करें तो करीब 41 फीसदी वोट तीनों पार्टियों को मिला था। जिसमें 224 सीटें सपा 28 सीटें कांग्रेस और 9 सीटें रालोद को मिली थी। इन तीनों के साथ आने से

ब्रांड अखिलेश के आगे दब गयी भाजपा, पूरे देश में मीडिया से लेकर हर गांव-शहर में छाये अखिलेश

ब्रांड अखिलेश —- ब्रांड अखिलेश भाजपा को अब बैक फुट पर ले आया है, जहाँ एक ओर पूरे प्रदेश में अखिलेश की चर्चा हैं तो वहीँ कई भाजपा नेता पार्टी में आये बाहरी नेताओ को मिलती तवजों से आहत हैं। कल शाम 6:30 बजे जैसे ही चुनाव आयोग ने साइकिल चुनाव चिन्ह के बारे में अपना फैसला उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव वाले धड़े के पक्ष में सुनाया, तो

भाजपा में भी बिकता है टिकट खरीदने वाला होना चाहिए, भाजपा नेता ने लगाया टिकट बेचने का आरोप

नोएडा,  अभी तक भाजपा के नेता और प्रवक्ता दूसरी पार्टियों पर MP और MLA का टिकट बेचने का आरोप लगाती रही है। टिकट बेचने को लेकर भाजपा के बड़े से बड़े नेता ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर जमकर हमला किया था। सोमवार को भाजपा द्वारा यूपी चुनाव को लेकर जारी की गयी 149 प्रत्याशियों की लिस्ट पर अब भाजपा के नेता ही सवाल उठाने लगे हैं। भाजपा नेता ने पार्टी

यूपी चुनाव से पहले BJP में विद्रोह, अमित शाह और पीएम मोदी के पोस्टर पर पोती कालिख, मारी चप्पल

नोएडा, जैसा की पहले से ही अनुमान लगाया जा रहा था कि टिकट वितरण के बाद भाजपा में बगावत तेज हो जायेगी।  सोमवार को शाम 6 बजे के करीब जैसे ही भाजपा की  149 प्रत्याशियों की लिस्ट आते ही पार्टी में बगावत के सुर बुलंद होने लगे हैं। सबसे ज्यादा विरोध ‘बाहरी’ नेताओं को प्रत्याशी बनाए जाने को लेकर है। इसी क्रम में मंगलवार को कासगंज में बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने

टिकट बटवारे से नाराज भाजपा का एक और विकेट गिरा, भाजपा महासचिव ने दिया इस्तीफा

नोएडा, सोमवार को भाजपा ने उत्तर प्रदेश के 149 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी थी। पहली लिस्ट आने के बाद से भाजपा में भूचाल आ गया है। टिकट मिलने की उम्मीद लगाए भाजपा नेताओं को उस वक्त झटका लगा जब प्रत्याशियों की लिस्ट में उनके नाम नहीं आये। बरेली में टिकट बंटवारे से नाराज केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार के साले वीरेंद्र ने बीजेपी महासचिव पद से इस्तीफा दे