देश के 1 करोड़ लोगों का प्राइवेट डेटा हुआ लीक, कहीं आपका डेटा तो नहीं हो गया लीक ? देखें रिपोर्ट

0
21
Loading...

दिल्ली, पुलिस ने एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश किया है जो दिल्ली समेत देशभर के एक करोड़ लोगों की बैंक डिटेल, क्रेडिट कार्ड, फेसबुक और व्हाट्सएप की डाटा लीक कर चुके हैं। इस जानकारी को बहुत सस्ते दामों पर बेचा जा रहा था। पुलिस ने ऐसे रैकेट का पर्दाफाश करते हुए गिरोह के मास्टरमाइंड को गिरफ्तार किया है।
साउथ ईस्ट दिल्ली के डीसीपी आर.बानिया ने बताया कि लोगों की महत्वपूर्ण डिटेल लीक करने वाला रैकेट, बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से चल रहा है। उन्होंने बताया कि ग्रेटर कैलाश में रहने वाली एक महिला के क्रेडिट कार्ड से 1.46 लाख रुपये गायब होने के मामले की जांच के दौरान इस रैकेट का खुलासा हुआ।

पुलिस ने बताया कि यह रैकेट आम लोगों की महत्वपूर्ण जानकारी बैंक में काम करने वाले लोगों और कॉल सेंटर्स की मदद से निकलवाता है। इसके बाद इस जानकारी को सस्ते दामों पर बेच दिया जाता है।

DCP ने बताया कि रैकेट चलने वाला पूरन गुप्ता एक साथ कई हजार लोगों के डाटा को बेचता था। बताया जा रहा है कि वह 50 हजार लोगों की जानकारियां देने के लिए 10 से 20 हजार रुपये लेता था। पुलिस ने दावा किया है कि पूरन गुप्ता अब तक एक करोड़ लोगों की जानकारियां बेच चुका है। इस जानकारी में क्रेडिट कार्ड नंबर, कार्ड होल्डर का नाम, डेट ऑफ बर्थ और मोबाइल नंबर शामिल है। दिल्ली पुलिस का कहना है कि पूरन गुप्ता से सारा डाटा मुंबई में किसी शख्स ने खरीदा है।

जाने कैसे काम करता है यह गिरोह ?

डेटा खरीदने वाला शख्स बैंक कर्मचारियों की मदद से लोगों को फोन कर उनके कार्ड का CVV नंबर और OTP शेयर करने को कहते थे। इसके बाद वह लोगों के बैंक अकाउंस से पैसे निकाल लेते थे।