कर्नाटक: विपक्ष ने मंच पर एकसाथ आकर दिखाई ताकत, माया-अखिलेश के इस अंदाज ने दिया बड़ा संदेश !

0
4

 

कर्नाटक : देश की राजनीति में आज पहली बार एक ऐतिहासिक दृश्य दिखा, जिसने सत्ता पक्ष की नींद जरूर हराम कर दी है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद के लिए जनता दल (सेक्युलर) के नेता कुमारस्वामी ने बुधवार को पूरे विपक्ष की मौजूदगी में शपथ ली, वह दूसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने। वहीं कांग्रेस के जी परमेश्वर ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इस दौरान विपक्ष के कई दिग्गज नेता भी शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे। जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी.देवेगौड़ा, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, बसपा सुप्रीमो मायावती,सोनिया गाँधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, तेलंगाना के सीएम के. चंद्रशेखर राव, रालोद अध्यक्ष अजीत सिंह,राजद नेता तेजश्वी यादव, वरिष्ठ नेता शरद यादव, सीपीआई (एम) नेता सीताराम येचुरी,डी राजा और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शामिल थे। एक ही मंच पर विपक्ष के सारे दिग्गजों के जमावड़े को 2019 लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के खिलाफ विपक्ष की ताकत के रूप में देखा जा रहा है।

बता दें कि कुमारस्वामी ने शपथग्रहण से पहले विपक्ष के कई दिग्गज नेताओं को आमंत्रित किया था। वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भी बंगलूरू पहुंचे, इस दौरान दोनों नेता एक दूसरे से बड़ी गर्मजोशी से मिले तथा उन्होंने जनता का एक साथ हाथ हिलाकर अभिवादन किया। अखिलेश-मायावती के इस अंदाज की मीडिया के साथ सभी जगह चर्चा हो रही है।

बता दें कि जेडीएस कांग्रेस के साथ मिलकर राज्य में गठबंधन सरकार बना रही है। 222 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा ने 104, तो वहीं कांग्रेस ने 78 और जेडीएस ने 38 सीटों पर जीत हासिल की है।

मालूम हो कि जेडीएस ने कर्नाटक में विधानसभा चुनावों से पहले ही बसपा के साथ, जबकि कांग्रेस से चुनाव बाद गठबंधन किया है। दोनों दलों के बीच पोर्टफोलियो बंटवारे पर भी चर्चा हो चुकी है। कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा कि मंत्रिमंडल में कुल 34 मंत्री शामिल होंगे।

Loading...