पंजाब निकाय चुनाव में कांग्रेस ने दर्ज की बम्पर जीत, भाजपा – अकाली चारो खाने चित !

0
0

पंजाब के तीन नगर निगमों-अमृतसर, जालंधर और पटियाला और 32 म्युनिसिपल काउंसिल और नगर पंचायतों पर रविवार 17 दिसंबर को हुए मतदान के बाद आए नतीजों ने विधानसभा चुनाव के बाद एकबार फिर भाजपा की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। 3 महानगरों जालन्धर, अमृतसर व पटियाला में हुए कार्पोरेशन चुनाव में कांग्रेस को भारी बहुमत मिलने पर तीनों शहरों में कांग्रेस के मेयर बनने का रास्ता साफ हो गया है।

जालंधर के कुल 80 वार्डों में से भाजपा ने मात्र 8 सीटें जीती जबकि उसकी सहयोगी अकाली दल को 4 सीटें मिली बाकी 66 सीटों पर कांग्रेस ने जीत हासिल की है 2 पर निर्दलीयों ने जीत दर्ज की है।

अमृतसर के कुल 85 वार्डों में से कांग्रेस ने 71, अकाली-भाजपा गठबंधन ने 11 (अकाली दल के 6 व भाजपा के 5) तथा 3 निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत हासिल की। पटियाला के कुल 60 वार्डों में से अब तक घोषित 53 वार्डों में सभी पर कांग्रेस को जीत मिली।

पंजाब के लोगों ने एक बार फिर से मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह की लीडरशिप पर अपनी मोहर लगा दी है। तीनों शहरों में मेयरों का चयन अब मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह करेंगे। इससे पहले भी 2002 से 2007 की पहली पारी के दौरान कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने मेयरों का चयन किया था। पटियाला में महारानी परनीत कौर की सहमति से मेयर बनेगा।

गुजरात चुनाव के नतीजे आने के कुछ घंटो पहले आए पंजाब नगर निगम चुनाव के नतीजों ने भाजपा और अकाली दल के अरमानों पर पानी फेर दिया है। विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा और अकाली दल की ये सबसे बुरी हार है।

Loading...