राजस्थान – बीजेपी के मंत्री ने सामूहिक बलात्कार पीड़िता पर दिया शर्मनाक बयान

0
48
Loading...

राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने गैंगरेप की शिकार 13 साल की बच्ची के मामले में ऐसा शर्मनाक बयान दिया है जिससे मानवता शर्मसार हो जाए। बीजेपी के मंत्री का ये बयान दर्शाता है की बीजेपी के नेताओं की महिलाओं के प्रति कितनी गिरी हुई सोच है।

राजस्थान की मंत्री और प्रदेश के बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने बीकानेर के नोखा में हुए सामूहिक दुष्कर्म में नाबालिग विक्टिम द्वारा घर पर गैंगरेप की बात न बताने और फिर परिजनों द्वारा 2 साल बाद शिकायत दर्ज करने पर सवाल उठाए हैं।

मंत्री ने कहा, सामान्य तौर पर तो अगर 8 लोग एकसाथ रेप करें और बच्ची उसी दिन घर पर आकर न बताए यह बात मेरी भी कम समझ में आ रही है क्योंकि इतने सालों के अनुभव के साथ कह सकता हूं कि अगर एक आदमी भी छोटी बच्ची का रेप करे तो उसे पता लग जाएगा कि उसके साथ कुछ दुर्घटना हुई है।

हालांकि इसके बाद उन्होंने यह भी कहा कि फिर भी चूंकि आरोप गंभीर है और हमने मेडिकल जांच के लिये बोर्ड का गठन किया है। उसके बाद ही पता चल सकेगा की इस मामले का वर्ष 2015 से किस तरह से संबंध है। पुलिस दोनों मामलों की निष्पक्ष जांच कर रही है।

कटारिया ने संवाददाताओं से कहा, विक्टिम के पिता ने एक अन्य मामले में शिकायत के बाद नाबालिग के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाया। मेडिकल बोर्ड विक्टिम की जांच करेगा, उसके बाद ही दुष्कर्म के आरोपों की पुष्टि हो सकती है।

मनन चतुर्वेदी ने कहा कि विक्टिम के पिता ने आरोपियों के खिलाफ इस संबंध में मामला पहले दर्ज क्यों नहीं करवाया, इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आरोप बहुत गंभीर है और विक्टिम के साथ न्याय होना चाहिए लेकिन विक्टिम के पिता की ओर से देरी से मामला दर्ज करवाने पर मामला जटिल हो गया है।

बीते शुक्रवार को विक्टिम के पिता ने एक निजी विद्यालय के 8 शिक्षकों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म और इसकी विडियो क्लिपिंग बनाने का मामला दर्ज करवाया था। घटना अप्रैल 2015 की है। इससे पहले आरोपी शिक्षकों में से एक शिक्षक ने विक्टिम के 2 भाइयों समेत 4 लोगों के खिलाफ बीती 20 मार्च को मारपीट का मामला दर्ज करवाया था।

Loading...