छात्र सभा के छात्रों को नक्सली कहने पर ऋचा सिंह ने योगी पर बोला हमला

0
418
Loading...

इलाहाबाद, इलाहाबाद विश्व विद्यालय की पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष एवं समाजवादी पार्टी की युवा नेता ऋचा सिंह ने लखनऊ विश्वविद्यालय के समाजवादी छात्र सभा को नक्सली कहने पर एतराज जाते हुए कहा कि योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। किसी सार्वजनिक मंच से विश्वविद्यालय के छात्रों के बारे मे किस प्रकार टिप्पणी करनी चाहिए, टिप्पणी के कैसे शब्दों का उपयोग करना चाहिए। इसका ध्यान रखना चाहिए।

ऋचा सिंह ने कहा कि, मुख्यमंत्री का पद गरिमा का पद होता है। इसलिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को सार्वजनिक मंचों से बोलते समय सही शब्दों का चयन करना चाहिए। छात्र निधि का पैसा मुख्यमंत्री के कार्यक्रमों मे खर्च किया जाये, और यदि छात्र इसका विरोध करे, काले झंडे दिखाये तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ छात्र – छात्राओं को नक्सली कहें और पुलिस अधिकारियों को आदेश दें कि इनके साथ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।

उन्होंने कहा कि, छात्र – छात्राओ के मौलिक अधिकार का इस तरह से हनन हो रहा है । संविधान ने हमें अपनी कठिनाइयों, समस्याओं, ज़्यादतियों की तरफ शासन – प्रशासन का ध्यान आकर्षित करने के लिए अभिव्यक्ति का अधिकार दिया है। उस अभियक्ति के अधिकार को कोई नहीं समाप्त कर सकता। ऐसा नहीं है कि लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्रों ने छात्र निधि का पैसा खर्च करने के लिए पहले लिखित शिकायत न की हो। लेकिन सत्ता के संरक्षण मे वीसी ने अपनी आँखें मूँद ली। अपने कान बंद कर लिए। कोई जवाब नहीं दिये।

ऐसे मे छात्र – छात्राओं के पास मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करने के सिवा और कोई दूसरा रास्ता नहीं था। इसलिए मेरी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से गुजारिश है कि वे बिना किसी शर्त के सारे केस समाप्त करते हुए छात्र – छात्राओं को रिहा करा दें। नहीं तो हमें प्रदेशव्यापी आंदोलन मे उतरना पड़ेगा। हमारी दृष्टि मे छात्र छात्र होता है, चाहे वह लखनऊ विश्व विद्यालय का हो या इलाहाबाद विश्वविद्यालय का।

Loading...