योगी सरकार के मंत्री ने दिया बेहद शर्मनाक बयान, बोले – अगस्त महीने में तो बच्चे मरते ही हैं !

0
96
Loading...

 

गोरखपुर में हुई घटना के बाद यूपी के कैब‌िनेट मंत्री स‌िद्धार्थ स‌िंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके घटना के बारे में सरकार की तरफ से सफाई दी। उन्होंने बताया क‌ि सर्वप्रथम लापरवाही को देखते हुए BRD के प्र‌िंस‌िपल को न‌िलंब‌ित कर द‌िया गया है जबक‌ि प्र‌िंस‌िपल ने इसके बाद बयान द‌िया क‌ि वह पहले ही त्यागपत्र ल‌िख चुके थे।

स‌िद्धार्थ स‌िंह ने कहा कि, योगी जी यहां 9 जुलाई और 9 अगस्त को भी आए थे। यहां उन्होंने डॉक्टरों से भी चर्चा की थी। एक व‌िषय जो क्र‌िट‌िकल है वो है गैस सप्लाई का वो सामने नहीं रखा गया। उन्होंने बताया क‌ि हमने आंकड़े भी देखने की कोश‌िश की है क्योंक‌ि 20 से 23 बच्चों के मरने की खबर आई है वो चौंकाने वाला मामला है।

सिद्धार्थ सिंह ने इस संवेदनशील मामले में पिछले आंकड़े बताकर राजनीति करने की कोशिश की और कहा कि अगस्त में तो बच्चे मरते ही हैं –

हालंकि उन्होंने कहा कि ये सरकार संवेदनशील है और एक बच्चे की मौत की जांच की वजह भी हमारे ल‌िए बड़ी है। हम 23 मौतों को कम आंकने का प्रयास नहीं कर रहे हैं। वो बोले हमने 2014 से आंकड़े न‌िकलवाए हैं। अगस्त के महीने में बच्चों की मौतें का आंकड़ा 19 प्रत‌िद‌िन होता है। 2015 में 22 और 2016 में प्रत‌िद‌िन 19 से ज्यादा है। इसका ये मतलब ये नहीं है क‌ि हम इसे कम आंक रहे हैं पर आगे का न‌िष्कर्ष न‌िकालने के ल‌िए ऐसा कर रहे हैं। बीआरडी मेड‌िकल कॉलेज में मौतों का आंकड़ा 17 से 18 न‌िकलता है क्योंक‌ि बच्चे यहां कई जगहों से आते हैं।

गोरखपुर के स्थानीय लोगों में बेहद रोष है और उन्होंने सीधे सवाल किया है प्रधानमंत्री मोदी से – गोरखपुर में 25 वर्ष से भाजपा सांसद के रूप में योगी जी संसद में बैठे रहे और तीन साल से प्रधानमंत्री होते हुए मोदी जी आप बैठे हैं,तब क्यों नहीं इन मौतों पर चर्चा हुई और केंद्र सरकार की तरफ से बच्चों की होती इन मौतों को रोकने के लिए कोई पुख्ता कदम क्यों नहीं उठाये गए।

 

Loading...